12वीं कॉमर्स के बाद क्या?

कॉमर्स स्ट्रीम से 12वीं की पढ़ाई पूरी के बाद सबसे ज्यादा इस बात पर कन्फ्यूजन होता है कि कॉलेज में बीबीए, बीकॉम या बीए इकोनॉमिक्स में से क्या चुना जाए। आइए हम आपको इस बारे में विस्तार से बताते हैं।

बीबीए : बैचलर ऑफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन (बीबीए) एक अंडरग्रेजुएट डिग्री कोर्स है, जो आपको बिजनेस के बेसिक नियमों की जानकारी देता है। यह डिग्री आपके लिए आंत्रप्रेन्योरशिप के अलावा एमएनसी, बीपीओ, केपीओ, कंसल्टेंसी फर्म व बैंक में सेल्स, मार्केटिंग, फाइनेंस, एचआर जैसे महत्वपूर्ण विभागों में कॅरियर के रास्ते खोलती है। अगर मैनेजमेंट फील्ड में आगे बढऩा है या आंत्रप्रेन्योरशिप को अपनाना है, तो आप बीबीए कर सकते हैं। हालांकि यह प्रोफेशनल कोर्स है। इसे करने के बाद आपको एमकॉम या एमए इकोनॉमिक्स में दाखिला नहीं मिलेगा।

बीकॉम : बैचलर ऑफ कॉमर्स (बीकॉम) एक अम्ब्रेला डिग्री कोर्स है। इसके तहत कॉमर्स से जुड़े सभी सब्जेक्ट जैसे फाइनेंस, अकाउंटिंग, इकोनॉमिक्स, इंश्योरेंस, टैक्सेशन और मैनेजमेंट इसमें आते हैं। बीकॉम करके आप फाइनेंशियल कंसल्टेंट, इंश्योरेंस कंसल्टेंट, ऑडिटर, स्टॉक ब्रोकर, मार्केट एनालिस्ट, ऑडिटिंग के फील्ड में जॉब हासिल कर सकते हैं या अपना स्टार्टअप भी शुरू कर सकते हैं। यह डिग्री आपको सीए, सीएस, सीएमए, सीएफए जैसे प्रोफेशन्स के लिए तैयार करती है।

बीए इकोनॉमिक्स : इस कोर्स में आपको इंफ्लेशन, रिसोर्स मैनेजमेंट, किसी उत्पाद के सप्लाई और डिमांड के पहलू समझाने के लिए माइक्रोइकोनॉमिक्स, मैक्रोइकोनॉमिक्स, स्टैटिस्टिक्स और इकोनोमेट्रिक्स जैसे विषय पढ़ाए जाते हैं। अगर नंबर्स में दिलचस्पी है और एनालिटिकल स्किल्स मजबूत हैं, तो यह डिग्री आपके लिए है। अगर आप पब्लिक पॉलिसी, स्टॉक ब्रोङ्क्षकग, बैंङ्क्षकग, रिसर्च, टीचिंग, लॉ में कॅरियर बनाना चाहते हैं या आईईएस, आईएएस, नेशनल सैंपल सर्वे, मिनिस्ट्री ऑफ इकोनॉमिक अफेयर, नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक फाइनेंस जैसे फील्ड्स में जाना चाहते हैं तो बीए इकोनॉमिक्स आपके लिए बेस्ट है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper