गोंडा में तेंदुए के हमले से 4 घायल, पुलिस व वन विभाग की टीम मौके पर

गोंडा। बहराइच के जंगल से भटक कर क्षेत्र के हरिहरपुर गांव मे पहुचे तेंदुए से आस पास के गांवों में दहशत का महौल है। इस दौरान खेतों में काम रहे दो लोगों के ऊपर तेंदए नें जानलेवा हमला भी किया। जिसमें एक की हालत नाजुक होने सें उसे एक निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया है। सूचना पर पुलिस व जंगल विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंच कर स्थित का जायजा लिया तथा वन विभाग नें तेंदुए को पकड़नें के लिए पिंजडा मंगवाया है। तेंदुआ एक सब्जी के खेत में छिपा है तथा गॉव वाले व वन विभाग के लोगों नें उस खेत को घेर रखा है।

मिली जानकारी के अनुसार, क्षेत्र के हरिहरपुर मे किसान सुरेश निषाद अपने खेत मे काम कर रहे थे। इसी बीच उन्होने वहां खेत के पास जंगली जानवर को देखा तो भाग कर शोर मचाने लगा। पर ग्रामीणों को सुरेश की बात पर विश्वास नही हुआ। इसी बीच तेंदुआ उस जगह से टहलता हुआ चांईपुरुवा पहुंच गया जहां खेत में परवल तोडने जा रहे किसान नवमीलाल पर तेंदुए ने हमला बोल दिया। तेदुएं के हमले से नवमीलाल भिड़ गया इन लोगों की आवाज सुनकर टमाटर के खेत मे काम कर रहे रामनरेश व राजेन्द्र ने दौड़कर टमाटर से भरा टोकरा उठाकर तेंदुए पर फेंका अचानक हुए हमले से तेंदुआ नवमीलाल को छोड़कर पुनः टमाटर के खेत मे घुस गया। लेकिन जब शोर के बाद एकत्रित ग्रामीणों ने इस घटना की जानकारी गांव के प्रधान तीरथराम यादव को दी।

प्रधान ने इस घटना को आनन फानन मे 100 नंबर व वन विभाग को सूचना दी। इस घटना के बाबत गांव के राजेंद्र धर्मेंद्र डब्बू दानित सहित अन्य ने तेदुए को पकड़ने की भी कोशिस की लेकिन उसके हमलावर होने से पकडा़ नही जा सका । घटना की सूचना पर कस्बा चौकी प्रभारी बिपिन सिंह पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंच कर तेंदुए की तलाश की शुरू की तो वहीं दूसरी ओर सूचना के घंटो बाद भी कोई वन विभाग की ओर से मौके पर नही आया। हालांकि घंटो के देरी बाद मौके पर पहुंचे वन विभाग के उपनिरीक्षक इंद्रमणि ने बताया कि तेदुंए को पकडने के लिए लखनऊ से टीम आ रही है। जो जल्द ही काम्बिग कर इसे पकड़ लेगी। टीम आने तक क्षेत्र मे मोर्चाबंदी की जारी रहेगी।

तेंदुए के हमले से ग्रामीणों में दहशत

बुधवार सुबह तेंदुए के हमले से पूरे क्षेत्र मे दहशत फैल गई। जिससे लोग अब घर से बाहर अकेले निकलने से डर रहे हैं। गांव के राजेन्द्र ने बताया कि मौत से अहसास हुआ हम लोग पकड़ने के लिए खेत मे पांच लोग गये तो उसने हमला कर दिया, शांती देवी ने बताया कि अक्सर हम सब सुबह खेत मे अपने कामों के लिए जाना पडता है। लेकिन इस घटना के बाद अब बाहर जाने से डर लग रहा है। राम लौटन ने कहा कि जब तक तेदुवा पकडा़ पकडा नही जाएगा खेतों मे काम करना मुश्किल होगा। युवक राम नरेश ने बताया कि अब तक बिना किसी परेशानी खेतो मे काम करने जाते थे ।लेकिन तेदुए के पकड़ मे न आने तक काम नही करेंगे ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper