15 अगस्त को संगीनों के साये में रहेगा कासगंज

कासगंज: स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बुधवार को कासगंज संगीनों के साये में होगा। बाजार बंद रहेंगे और शहर में 30 बैरियर लगाकर चौकसी कर रही पुलिस व अर्धसैनिक बल हर जगह तैनात मिलेगी। ये सारे इंतजाम इसलिए हैं कि 15 अगस्त को कोई “तिरंगा यात्रा” न निकाल सके। प्रशासन के अनुसार जिले में 47 ऐसे प्वाइंट चिह्नित किये गए हैं जहां से प्रवेश कर गैर जनपद के लोग शहर की फिजां खराब कर सकते हैं। इसके अलावा शहर को 2 जोन व 7 सेक्टर, 18 सबसेक्टर में विभाजित किया गया है। सेक्टरों में 74 प्वाइंट्स बनाए गए हैं, जिनमें 25 स्थानों पर बैरियर लगाए जाएंगे। इसके अलावा 35 स्थानों पर छतों पर पुलिस बल तैनात रहेगा। सुरक्षा की दृष्टि से शहर के बाजारों को बंद रखा जाएगा।

दरअसल बीती 26 जनवरी को तिरंगा यात्रा के दौरान हुए बवाल व युवक चंदन की हत्या से सहमे जिला प्रशासन ने जिले में 15 अगस्त को तिरंगा यात्रा के लिए अनुमति चाहने वाले तीनों प्रार्थनापत्र निरस्त कर दिये हैं। वहीं खुफिया इनपुट तथा सोशल मीडिया पर लगातार चल रहे तिरंगा यात्रा के अभियान के दृष्टिगत उ.प्र. सरकार के गृह विभाग ने भी अलर्ट जारी किया है। प्रमुख सचिव गृह अरविन्द कुमार ने अधिकारियों को निर्देश जारी कर कहा है कि किसी को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं होगी। किसी को भी कानून को हाथ में लेने की इजाजत नहीं है। मामले में प्रशासनिक अधिकारी लोगों पर नजर रखें। वहीं सुरक्षा को लेकर शासन ने जिले में अतिरिक्त पुलिस की व्यवस्था की है।

बता दें कि बीती 26 जनवरी को तिरंगा यात्रा निकालने के दौरान इस यात्रा के अल्पसंख्यक बाहुल्यक्षेत्र में पहुंचने पर यात्रा का मार्ग बदलने कोलेकर टकराव हुआ था। इस टकराव के बाद समूचे कासगंज शहर में साम्प्रदायिक दंगे फैल गये। जगह-जगह हिंसा व आगजनी की घटनाओं के मध्य यात्रा के करीब दो घंटे बाद इस यात्रा के प्रमुख आयोजक रहे युवक चंदन की दंगाइयों ने गोली मारकर हत्या कर दी तथा शहर को दंगे की आग में झोंक दिया। अचानक घटी इस घटना के दौरान पुलिस व प्रशासन के आला अधिकारी सोरों स्थित पुलिस लाइन में गणतंत्र दिवस के समारोहों में व्यस्त थे। वह जब तक कासगंज पहुंच स्थिति को संभालने का प्रयास करते, पूरा शहर दंगाइयों की गिरफ्त में आ चुका था। बाद में अलीगढ़ मंडल के कमिश्नर व आगरा रेंज के एडीजी आदि उच्चाधिकारियों के पहुंचने पर 5 दिन बाद बमुश्किल स्थति पर नियंत्रण पाया जा सका था।

इस घटना से सबक लेकर जिला प्रशासन ने ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए 15 अगस्त व त्योहारों को दृष्टिगत रख जब जिले में धारा 144 लागू की तो संकल्प फाउण्डेशन व जमीयत-ए-उलेमा ने कासगंज नगर में, जबकि अखंड आर्यावर्त संगठन ने सोरों में तिरंगा यात्रा निकाले जाने हेतु अनुमति मांगी। इन आवेदनों को जिलाधिकारी ने पुलिस रिपोर्ट के बाद यह कहते हुए निरस्त कर दिया कि जिले में लगी धारा 144 के दृष्टिगत किसी नयी परंपरा की शुरूआत करने की अनुमति नहीं दी जा सकती।

जिलाधिकारी आरपी सिंह के मुताबिक 26 जनवरी की हिंसा के बाद अभीस्थिति सामान्य नहीं है। जिले में धारा 144 लागू है। इसलिए इन गैरपरम्परागत यात्राओं को निकालने की अनुमति नहीं दी जा सकती। जिसे राष्ट्रीय पर्व के दिन कार्यक्रमों में भाग लेना हो वे कलक्ट्रेट, पुलिस लाइन या विद्यालयों के कार्यक्रमों में हिस्सा ले सकते हैं। वहीं प्रशासन को मिले खुफिया इनपुट के चलते एसपी शिवहरि मीणा ने डीजीपी को पत्र लिखकर कासगंज के लिए 2 कंपनी पीएसी, 1 कंपनी आरएएफ तथा आसपास के जिलों से अतिरिक्त पुलिस बल की मांग की है। साथ ही खुफिया तंत्र को भी सक्रिय कर दिया गया है।

पुलिस अधीक्षक के अनुसार पीएसी व आएएफ की तैनाती संवेदनशील जगहों पर की जाएगी। दूसरी ओर ऐतिहात बरतते हुए कासगंज व गंजडुडवारा शहर को विभिन्न वार्ड व सेक्टर में बांटते हुए यहां पुलिस के फुल ड्रेस रिहर्सल कराए जा चुके हैं। साथ ही इन यात्राओं के आयोजकों, सोशल मीडिया पर अभियान चला रहे लोगों व अन्य सहित 150 से अधिक लोगों से कासगंज शहर में जबकि 350 से अधिक लोगों के पूरे जिले में शान्तिभंग के अंदेशे में 5-5 लाख के मुचलके भरवाए गये हैं। इसके अलावा भी उन्हें रेड कार्ड के माध्यम से चेतावनी भेजी जा रही है। साथ ही उनकी मॉनीटरिंग कराई जा रही है। प्रशासन की योजना इनके द्वारा 15 अगस्त को किसी अवांछित गतिविधि की सूचना मिलते ही इन्हें अपने घरों या थानों में नजरबंद करने की भी है।

इस बीच अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने भाजपा अध्यक्ष व प्रधानमंत्री को ट्वीट कर सवाल किया है कि स्वाधीन देश का स्वाधीनता दिवस मनाने की इस पाबंदी के बाद कैसे कहें कि हम स्वाधीन हैं। वहीं कुछ लोग इस प्रतिबंध को लेकर कासगंज के श्रीनगर बनने की टिप्पणी भी कर रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper