15 साल तक सिर्फ अपने परिवार के लिए काम किया इसीलिए आज जेल में है: नितीश कुमार

बिहार: बिहार में है चुनाव, नेता जी अभिनेता बन के मैदान में उतर गए है. लालू यादव के पुत्र तेजस्वी और बिहार के मौजूदा मुख्यमंत्री नितीश कुमार जबरदस्त रैलियां कर रहे है. आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. मैंने ये किया तुमने क्या किया वाला माहौल चल रहा है. नीतीश साहब तो एक रैली के दौरान लालू यादव पर जमकर बरसे. बिना नाम लिए बोले आपने धंधा किया इसीलिए आज आप अन्दर है. इतने पर ही नहीं माने और भी बहुत कुछ बोले, लालू और राबड़ी देवी के 15 साल के कार्यकाल का जिक्र करते हुए कहा की पति-पत्नी ने 15 साल तक काम किया, और सिर्फ अपने परिवार के लिए ही काम किया. उसी का नतीजा है की आज वो अंदर है.

दरअसल चुनाव सर पर है न ही नितीश कुमार कोई मौका छोड़ रहे है और न ही लालू पुत्र तेजस्वी. जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार ताबड़तोड़ रैलियां कर रहे है बुधवार को साहब ने सबसे पहले अमरपुर में रैली की, इसके बाद पहुंचे भागलपुर के सुल्तानगंज. चुनावी फुर्ती का आलम ये रहा की मुख्यमंत्री तारापुर भी पहुंच गए. आखिरी रैली पटना के मोकामा में है.

नितीश बाबू ने खुद की पीठ भी थपथपाई, रैली के दौरान गरज कर बोले हमने जनता के लिए काम किया, जनता की बढ़चढ़ कर सेवा की. लेकिन औरों ने तो बस खुद के विकास के लिए काम किया. और परिणाम स्वरुप जेल में बंद है. नितीश खुद के कार्यकाल का जिक्र करते हुए बोले हमने समाज के हर वर्ग के लिए काम किया है. वंचित वर्ग को मुख्यधारा में ले आये है. बेटियों के पास साईकिल पहुंच गई है. प्रति व्यक्ति आय पहले 8 हजार 481 रुपया था आज 34 हजार 413 रुपया पहुंच गया है. उन्होंने कहा की 2005-06 में राज्य का सकल घरेलू उत्पाद मात्र 76 हजार 466 करोड़ था जिसे अब 4 लाख 14 हजार 975 करोड़ किया गया है.

लालू पुत्र तेजस्वी भी पीछे कहा रहने वाले है उन्होंने भी नितीश कुमार से कई सवाल किये. उन्होंने पूछा जब आपके कार्यकाल में सब कुछ सही है तो पलायन क्यों नहीं कम हुआ. रोजगार क्यों नहीं मिल रहा. कुलमिलाकर माहौल चुनावी है. अपने-अपने कामों का हो-हल्ला हर नेता हर पार्टी करने में जुटी है.

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper