15 हजार से कम सैलरी वालों की बल्ले-बल्ले, अगस्त तक PF सरकार देगी

नई दिल्ली: वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज प्रेस कांफ्रेंस के दौरान विभिन्न घोषणाएं की। इन घोषणाओं में एक बहुत ही महत्वपूर्ण घोषणा पीएफ (भविष्यनिधि) धारकों के लिए की गई। मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि सरकार अगस्त तक कंपनी और कर्मचारियों की तरफ से 12 फीसदी + 12 फीसदी की रकम ईपीएफओ में जमा करेगी। सरकार के इस कदम से 75 लाख से ज्यादा कर्मचारियों और संस्थाओं को फायदा मिलेगा।

सरकार के इस ऐलान का लाभ सिर्फ उन्हीं कंपनियों को मिलेगा जिनके पास 100 से कम कर्मचारी हैं और 90 प्रतिशत कर्मचारियों का वेतन 15 हजार से कम है। टेक होम सैलरी बढ़ाने के लिए सरकार ने एक कदम और उठाया है। जिन कर्मचारियों का 24 प्रतिशत ईपीएफ अंशदान सरकार नहीं भर रही है यानी जिनकी सैलरी 15 हजार से ज्यादा है, उनके मामले में नियोक्ता और कर्मचारी दोनों के लिए पीएफ में योगदान का प्रतिशत घटाकर 12 से 10 प्रतिशत किया गया है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया, कल प्रधानमंत्री से आपने आर्थिक पैकेज का ऐलान सुना, इस पैकेज पर फैसला समाज के कई वर्गों, कई मंत्रालय और विभागों के बीच चर्चा के बाद लिया गया। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया, हम गरीबों, जरूरतमंदों, प्रवासियों, दिव्यांगों और वृद्धों के प्रति अपनी जिम्मेदारी को नहीं भूलेंगे। वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि पीएम मोदी ने निर्देश दिया है कि प्रतिदिन अलग-अलग सेक्टर को लेकर जानकारी दी जाएगी। डिमांड को कैसे बढ़ाना है, डिमांड सप्लाई चेन कैसे बनी रहे और अर्थव्यवस्था कैसे दुरुस्त रहे इस पर काम करने की जरूरत है। गरीबों के खाते में सीधा पैसा पहुंच रहा है। डीबीटी के जरिए हमारी सरकार गरीबों तक मदद पहुंचाने का काम कर रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper