150 साल पहले ये था दुनिया का सबसे अमीर शहर ‘सिटी ऑफ गोल्ड’

नई दिल्ली: आज दुनिया के अमीर देशों में न्यूयॉर्क और लंदन को गिना जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि इससे पहले यानी 150 साल पहले एक ऐसा देश था जिसके दुनिया के सबसे अमीर देश कहा जाता था। इतना ही नबीं उनको ‘सिटी ऑफ गोल्ड’ कहा जाता था और ये दक्षिण अफ्रीका का एक शहर जोहान्सबर्ग था। यह दक्षिण अफ्रीका का सबसे बड़ा और सबसे ज्यादा आबादी वाला शहर है। बताया जाता है कि उस दौर में यहां कई हीरे और सोने की खानें हुआ करती थीं। इसलिए इसे ‘सिटी ऑफ गोल्ड’ यानी सोना उगलने वाला शहर कहा जाता था।

इसके पीछे एक वजह यह भी थी कि करीब 150 साल पहले यहां की खदानों से दुनिया का 80 फीसदी सोना निकाला जाता थ, लेकिन अब इसी शहर को दुनिया के सबसे खतरनाक शहरों में शुमार हो चुका है। कहा जाता है कि यह शहर अब अपराधियों का अड्डा बन चुका है। इतना ही नहीं बताया जाता है कि साल 1886 में एक अंग्रेज ने जोहान्सबर्ग में सोने के खदानों की खोज की थी, जब दुनिया को इस जगह के बारे में पता चला तो दूसरे-दूसरे देशों से लोग यहां आकर बसने लगे और सोने की खदानों में काम करने लगे।

बताया जाता है कि लोगों को यहां काम के दौरान काफी तादात में सोन मिला करता था, जिसके चलते ये शहर काफी अमीर बन चुका था। वहीं अब यहां फिलहाल ‘गोल्ड रीफ सिटी’ मनोरंजन का सबसे बड़ा केंद्र है। यह शहर के सेंट्रल बिजनेस डिस्ट्रिक्ट में सोने की खान के पास स्थित है। असल में यह एक पार्क है, जहां काम करने वाले कर्मचारी 1880 ई. के समय की पोशाक पहन कर घूमते दिखाई देते हैं। इतना ही नहीं यहां की सभी इमारतों को भी उसी समय के हिसाब से डिजाइन किया गया है। यहां काफी संख्या में पर्यटक आते हैं। साथ ही वो यहां आकर खदान से धातु निकाल कर सोना बनाने की पूरी प्रक्रिया को देखते और समझते हैं।

जोहान्सबर्ग का सबसे बड़ा म्यूजियम ‘हेक्टर पीटरसन म्यूजियम’ है। यह औरलैंडो वेस्ट में स्थित है। यहीं पर एक बच्चे हेक्टर पीटरसन की हत्या कर दी गई थी। उसी बच्चे की याद में बाद में इस म्यूजियम का नाम हेक्टर पीटरसन म्यूजियम रखा गया। इसे 16 जून 2002 को आम जनता के लिए खोला गया था। जोहान्सबर्ग के सबसे बड़े चिड़ियाघर में जानवरों की करीब 3000 प्रजातियां हैं। यह चिड़ियाघर दुनिया की उन गिनी-चुनी जगहों में है, जहां सफेद शेर पाए जाते हैं। इसके अलावा यहां साइबेरियन बाघ भी पाए जाते हैं। जोहान्सबर्ग का ‘द साउथ अफ्रीकन म्यूजियम ऑफ रॉक आर्ट’ उन म्यूजियम में से है, जहां पत्थर की नक्काशीदार वस्तुओं को रखा गया है। येल रोड पर स्थित इस म्यूजियम में रखी वस्तुओं के बारे में कहा जाता है कि उसमें से कुछ वस्तुएं तो आदिमानवों की भी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper