150 से भी ज़्यादा बार सांप काट चुके हैं, वजह जान हैरानी में पड़ जायेंगे

नई दिल्ली: हर इंसान किसी न किसी चीज़ से डरता ज़रुर है चाहे वो कोई दिखने वाली चीज़े हो या किसी भी बात का डर। अगर बात की जाये किसी जानवर की तो महिलाओं की हालत पतली हो जाती अगर वे किसी कीड़े को भी देख लें। ऐसा नज़ारा आपने अपने घर में भी कई दफा देखा ही होगा। लेकिन आप ज़रा सोच के देखिये के आपको कही सांप मिल जाए, ऐसी स्थिति में आपकी कैसी हालत होगी, हमारे ख्याल से आप सोचने समझने की शक्ति भी खो देंगे।

अब ये तो आपने अक्सर सुना होगा कि अगर किसी नाग नागिन के जोड़े को तंग किया जाए तो इससे इंसान को सबसे बड़ा पाप लगता है। वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दे कि सांप जहरीला हो या न हो, लेकिन सांप के नाम से हर कोई डरता है, इसके इलावा कुछ लोग तो ऐसे होते है, जो सांप के जहर के बारे में सुन कर ही हार्ट अटैक से मर जाते है। बरहलाल आज जिस खबर से हम आपको रूबरू करवाने जा रहे है, वो एक महिला से संबंधित है, जिसका हाल बेहाल हो गया है। जी हां आपको जान कर ताज्जुब होगा कि अठारह साल की उम्र से इस महिला के पीछे नाग हाथ धोकर पड़े हुए है।

आज हम आपको एक ऐसी महिला के बारे में बताने जा रहे जिसे साँपों से ज़रा सा भी डर नहीं लगता, क्युकी साँपों के साथ उनका सालों पुराना रिश्ता है। इस महिला का नाम कला देवी है। किसी भी आम इंसान को अगर सांप दिख भी तो उसे हार्ट अटैक तक पड़ सकता है लेकिन कला देवी को तो सांप आये दिन डसते रहते हैं। इनकी माने तो इनको सांपो ने लगभग 151 बार डसा होगा। कला देवी को सांप क्यों डसते हैं इस बात का आज तक कोई पता नहीं लगा पाया है।

इनके घर वालों ने इनको साँपों से बचने की बहुत कोशिश की लेकिन सारी कोशिशे नाकामयाब रही। इतना सब कुछ करने के बाद भी कोई न कोई सांप आकर उन्हें काट लेता है। कला देवी को सांप कभी खाना कहते वक़्त काट लेता है तो कभी नहाते वक़्त। ताज्जुब की बात यह है की इतनी बार साँपों से कटवाने के बाद भी उन्हें कभी जान का खतरा नहीं हुआ लेकिन आज भी उन्हें जब सांप काट लेता है तो डॉक्टर के पास जाना ही पड़ जाता है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper