2जी घोटाला: मंत्री ने जज पर उठाया सवाल, कहा- कोर्ट का फैसला गलत

अखिलेश अखिल

नई दिल्ली: 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले पर दिल्ली स्थित पटियाला हाउस कोर्ट के फैसले को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने गलत बताया है और जज पर आरोप लगाते हुए कहा है कि जज ने कई सबूतों को नजरअन्दाज किया है। रविशंकर प्रसाद एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। रविशंकर प्रसाद ने इस घोटाले पर फिर से अपील करने की बात कही है। उन्होंने कहा, “मैंने 1500 पेज के उस जजमेंट को पढ़ा है। हम इसके खिलाफ अपील करेंगे।”

बता दें कि साल 2009 में तत्कालीन कैग विनोद राय की रिपोर्ट सार्वजनिक होने के बाद कथित 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले का मामला सामने आया था। इस घोटाले में भारत सरकार को 1 लाख 76 हजार करोड़ रुपये के नुकसान होने की बात कही गई थी। 21 अक्टूबर 2009 को सीबीआई ने 2जी स्पेक्ट्रम मामले की जांच के लिए मामला दर्ज किया था और 21 दिसंबर 2017 को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले के सभी आरोपियों को बरी कर दिया था।

पटियाला हाउस कोर्ट के जज ने सभी आरोपियों को बरी करते हुए कहा था कि मुझे यह कहने में कोई संदेह नहीं है कि अभियोजन पक्ष किसी भी आरोपी के खिलाफ कोई आरोप साबित करने में बुरी तरह असफल रहा है। बता दें कि 2जी मामले को लेकर तब सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच भारी तकरार हुआ था। कई दिनों तक संसद की गतिविधियां रुकी पड़ी थी।

इस मामले को लेकर देश भर में कांग्रेस और मनमोहन सरकार की काफी किरकिरी भी हुयी थी। 2014 के आमचुनाव में भी यह मामला बीजेपी के चुनावी अजेंडे में शामिल था। बीजेपी ने लोकसभा चुनाव में इस मामले को खूब भुनाया भी था। माना जा रहा है कि 2014 के चुनाव में कांग्रेस की हार के कई कारणों में एक कारण 2 जी मामला भी था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper