200 से ज्यादा जिम के मालिक हैं MS Dhoni, करोड़ों में होती है रोज की कमाई !

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट खिलाड़ियों में से एक हैं. एक छोटे से शहर मे जन्म लेने वाले धोनी ने मौजूदा समय में सबसे कामयाब क्रिकेट खिलाड़ियों में से हैं. धोनी की रोज की कमाई करोड़ों में है. अपनी इस रिपोर्ट में हम आपको धोनी की कमाई के ज्यादातर साधनों के बारे में बताने जा रहे हैं.

धोनी के नाम हैं 200 से ज्यादा जिम

बहुत से लोगों को इस बात की जानकारी नहीं होगी कि सीएसके (CSK) के कप्तान एमएस धोनी (MS Dhoni) के नाम पूरे देश में करीब 200 से ज्यादा जिम हैं. हमारी सहयोगी वेबसाइट DNA के मुताबिक धोनी स्पोर्ट्सफिट वर्ल्ड प्राइवेट लिमिटेड नाम की एक जिम फ्रेंचाइजी के मालिक हैं. रोज करोड़ों की कमाई करने वाले माही की कमाई का एक ये भी जरिया है.

धोनी की फुटबॉल और हॉकी टीम

एमएस धोनी (MS Dhoni) एक फुटबॉल और एक हॉकी टीम के भी मालिक हैं. अपने बचपन में एक फुटबॉल खिलाड़ी बनने की चाह रखने वाले धोनी के नाम इंडियन सुपर लीग में चेन्नईयिन एफसी नाम की एक टीम है. इसके अलावा धोनी के नाम रांची रेज नाम की एक हॉकी टीम भी है.

कई ब्रांड के एम्बेसडर हैं धोनी

एमएस धोनी (MS Dhoni) कई हाई-प्रोफाइल ब्रांड्स के एंबेसडर हैं. धोनी की कुल संपत्ति उनके विज्ञापन पर बहुत निर्भर करती है और विज्ञापन की दुनिया में उनकी लोकप्रियता के कारण उनकी संपती हमेशा प्लस में ही रहती है. धोनी के पास इसके अलावा होटल माही रेजीडेंसी नाम से एक होटल भी है. होटल की कोई अन्य फ्रेंचाइजी नहीं है क्योंकि इसका ब्रांड केवल झारखंड, माही के गृह राज्य में स्थित है.

माही के नाम है रेसिंग टीम

एमएस धोनी (MS Dhoni) का बाइक्स के लिए प्यार कभी छुप नहीं सका है. हालांकि, कम ही लोग जानते हैं कि माही सुपरस्पोर्ट वर्ल्ड चैंपियनशिप में एक रेसिंग टीम के भी मालिक हैं. वो दक्षिण अभिनेता अक्किनेनी नागार्जुन के साथ साझेदारी में इस टीम का मालिकाना हक रखते हैं.

Source: Zee News

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper