3 दिन तक घर में सड़ती रही थी इस फेमस हीरोइन की लाश, ऐसे गुजरे थे इन 13 एक्टर्स के आखिरी दिन !

मुंबई: ससुराल सिमर का सीरियल में काम कर चुके एक्टर आशीष रॉय का किडनी फेलियर के कारण निधन हो गया. उनकी मौत की खबर काफी हैरान करने वाली थी. एक्टर के पास अपना इलाज कराने के लिए पैसे भी नहीं थे. बेहद तंगहाली में उनके आखिरी दिन गुजरे. अशीष ही नहीं, बॉलीवुड के कई जाने-माने चेहरों के आखिरी दिन बहुत बुरी हालत में गुजरे. पैसों की कमी, और अकेलेपन की वजह से उन्होंने इतने बुरे आखिरी दिन देखे जो उन्हें अपनी बाकी की जिंदगी में कभी नहीं देखने को मिले थे. हम आपको बता रहे हैं ऐसे ही कुछ एक्टर्स के बारे में जिन्हें अपने जीवन के आखिरी दिनों में काफी तकलीफों का सामना करना पड़ा.

परवीन बॉबी

अपने समय की मशहूर अभिनेत्री परवीन बॉबी की मौत बेहद दर्दनाक थी. निर्देशक महेश भट्ट के अनुसार परवीन बॉबी को पैरानायड स्कित्जोफ्रेनिया बीमारी हो गई थी. इस बीमारी से वो कभी नहीं उभर पाईं. उन्होंने अमिताभ बच्चन समेत कई बड़े कलाकारों पर उनकी हत्या के शक में केस दर्ज कराया था. 20 जनवरी 2005 को उन्होंने अकेले घर में दम तोड़ दिया था. 3 दिन तक उनकी लाश घर में सड़ती रही थी.

विम्मी

सुनील दत्त की फिल्म हमराज से अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत करने वाली विम्मी, फिल्म की सफलता के बाद स्टार बन गई थी. मगर बढ़ते कर्ज, बिगड़ती फैमली लाइफ और कर्ज के बोझ के चलते उनका करियार खराब होता चला गया. लिवर की बीमारी के चलते 22 अगस्त 1977 को विम्मीत की मौत हो गई. विम्मी की लाश को ठेले पर रखकर शमशान घाट ले जाना पड़ा था.

एके हंगल

दिग्गज अभिनेता एके हंगल की जिंदगी के आखिरी दिन भी बेहद कमी में गुजरे. अपनी जिंदगी के अंतिम दिन उन्होंने एक टूटे-फूटे घर में गुजारे थे. 26 अगस्त 2012 को उनका निधन हो गया था.

गीता कपूर

अभिनेत्री गीता कपूर ने पाकीजा जैसी फिल्मों में अभिनय किया था. अंतिम वक्त में उनके बच्चों ने उनकी सुध नहीं ली. कष्ट में ही उनके जीवन का अंत हुआ. उनका निधन लगभग दो साल पहले, 26 मई 2018 को हुआ था.

सीताराम पंचाल

कई बड़ी फिल्मों में छोटे मगर यादगार किरदार कर चुके सीमाराम पंचाल की मौत अगस्त 2017 में हुई थी. सीताराम को किडनी और लंग का कैंसर था मगर उसका इलाज कराने के लिए उनके पास पैसे नहीं थे.

अचला सचदेवा

अचला सचदेवा ने दिल वाले दुल्हनिया ले जाएंगे फिल्म में काजोल की दादी का किरदार निभाया था. 2012 में पुणे के अस्पताल में उनका निधन हो गया था. यूएस में रह रहे उनके बेटे ने उनकी सुध नहीं ली थी.

भगवान दादा

बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर और निर्देशक भगवान दादा को काफी सफलता प्राप्त हुई. एक वक्त ऐसा था जब जुहू में उनका 25 कमरों का बंगला था. उनके पास कई गाड़ियां थीं मगर करियर में ऐसी गिरावट आई कि उन्हें दादर में दो कमरे वाली चॉल में रहना पड़ा था. 2002 में उनका निधन हो गया था.

मीना कुमारी

मशहूर अभिनेत्री मीना कुमारी का अंत भी बहुत कष्ट से भरा था. जीवन के आखिरी समय में वो आर्थिक तंगी का शिकार थीं. 1972 में महज 38 साल की उम्र में मीना कुमारी का निधन हो गया था.

श्रीवल्लभ व्यास

लगान के ईश्वर काका तो आपको याद होंगे? श्रीवल्लभ व्यास का निधन 2017 में हुआ था. 2008 में एक हादसे के बाद उनके सर का ऑपरेशन हुआ जिसके बाद उन्हें काफी तकलीफों का सामना करना पड़ा. उनकी वाइफ ने कहा था सिने और टेलीविजन एसोसिएशन ने भी उनकी कोई मदद नहीं की थी.

नलिनी जयवंत

काला पानी, राही और शिकस्त जैसी फिल्मों में अभिनय करने वाली नलिनी जयवंत का निधन दिसंबर 2010 में हुआ था. जीवन के अंतिम दिनों में अभिनेत्री के पास अपने अस्पताल का बिल भरने के भी पैसे नहीं थे.

भारत भूषण

पुराने वक्त के दिग्गज अभिनेता भारत भूषण के आखिरी दिन बेहद खराद थे. कर्ज के बोझ ने उन्हें तबा रखा था. 27 जनवरी 1992 को उनका निधन हो गया था.

महेश आनंद

कई सुपरहिट फिल्मों में निगेटिव किरदार निभाने वाले महेश आनंद का निधन 9 फरवरी 2019 को हुआ था. मौत के दो दिन बाद उनका शव उनके फ्लैट से बरामद हुआ था. वो लंबे समय तक काम से दूर थे और लंबे वक्त तक काम की तलाश में थे.

इंदर कुमार

28 जुलाई 2017 को इंदर कुमार का निधन दिल का दौरा पड़ने से हुआ था. एक्टर की मौत के बाद उनकी वाइफ ने बताया कि वो आर्थिक तंगी से गुजर रहे थे. उन्होंने इंडस्ट्री के कई लोगों से मदद की गुहार भी लगाई थी.

Source: News18 India

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper