31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा, गृह मंत्रालय ने जारी की लॉकडाउन 4.0 के लिए गाइडलाइंस

नई दिल्ली: देशभर में 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा कर दी गई है. देशभर में लॉकडाउन बढ़ाने का निर्देश राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) द्वारा जारी किया गया है. एनडीएमए ने सभी राज्यों को 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का निर्देश दिया है. गृह मंत्रालय ने लॉकडाउन 4.0 को लेकर गाइडलाइंस भी जारी कर दी हैं. लॉकडाउन 3.0 के अंतिम दिन एनडीएमए नें केंद्र को चिट्ठी भेजकर पूरे देश में 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का निर्देश दिया. तीन राज्यों ने एनडीएमए के ऐलान से पहले ही आगामी 31 मई तक लॉकडाउन बढ़ाने का ऐलान कर दिया. ये राज्य हैं: तमिलनाडु, महाराष्ट्र और पंजाब.

गृह मंत्रालय द्वारा लॉकडाउन 4.0 के लिए जारी गाइडलाइंस के मुताबिक,
-होटल, रेस्टोरेंट बंद रहेंगे.
– होम डिलीवरी की इजाजत होगी.
– 31 मई तक सभी उड़ानों पर रोक रहेगी.
– मॉल, सिनेमा पहले की तरह बंद रहेंगे.
-घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ानें 31 मई तक बंद रहेंगी.
– सभी तरह के आयोजनों पर 31 मई तक रोक
– ग्रीन जोन में एक ही राज्य के अंदर बस, टैक्सी चलाने की इजाजत
– स्डेडियम, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स खुलेंगे लेकिन दर्शकों को जाने की इजाजत नहीं होगी.
– बाजार को खोलने को लेकर अभी तक स्थिति साफ नहीं.
– राज्यों की सहमति से अंतर-राज्यीय बस सेवाएं शुरू हो सकती हैं.
– सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक कार्यक्रमों पर रोक रहेगी.
– स्कूल, कॉलेज और सभी शिक्षण संस्थाएं पहले की तरह बंद रहेंगे.
– रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन राज्य सरकारें तय करेंगी.
-हॉट स्पॉट इलाकों में सख्ती जारी रहेगी.
– मेट्रो सेवा 31 मई तक बंद रहेगी.
– सभी तरह के पूजा स्थल बंद रहेंगे.
-कंटेनमेंट जोन में सिर्फ जरूरी सेवाओं की अनुमति होगी.

इससे पहले, तमिलनाडु में लॉकडाउन की अवधि 31 मई तक बढ़ाई गई. 25 जिलों में बस सेवा भी बहाल होगी. तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए राज्य में लागू लॉकडाउन की अवधि 31 मई तक बढ़ाने की घोषणा की.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper