370 से लेकर एयर-सर्जिकल स्ट्राइक तक, जानें लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी ने क्या दिया संदेश

देश आज स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगांठ मना रहा है. स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के मौके पर लालकिले की प्राचीर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने देश की रक्षा नीतियों की तारीफ की और भारत की दुनियाभर में बढ़ती ताकत का जिक्र किया. पीएम मोदी ने देश की उपलब्धियां गिनवाते हुए कहा कि भारत अब कड़े फैसले लेने लगा है. चीन (China) के विस्तारवादी सोच पर प्रधानमंत्री मोदी ने हमला बोला.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘भारत अपनी संकल्पशक्ति लगातार सिद्ध कर रहा है. अनुच्छेद 370 को बदलने का ऐतिहासिक फैसला हो, देश को टैक्स के जाल से मुक्ति दिलाने वाली व्यवस्था- GST हो, हमारे फौजी साथियों के लिए वन रैंक वन पेंशन हो, या फिर रामजन्मभूमि केस का शांतिपूर्ण समाधान, ये सब हमने बीते कुछ वर्षों में सच होते देखा है.’
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत आतंकवाद की चुनौती से लड़ रहा है और हिम्मत के साथ जवाब दे रहा है. मैं देश को विश्वास दिलाता हूं कि सेनाओं का हाथ मजबूत करने में कोई कसर नहीं छोडेंगे. रक्षा तैयारियों में हम आत्मनिर्भर बनते जा रहे हैं. आतंकवाद और विस्तारवाद से हम हिम्मत के साथ लड़ते हुए जवाब भी दे रहे हैं.

‘यही समय है, सही समय है’, स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले से पीएम मोदी ने देश को दिया नया मंत्र
किन उपलब्धियों का पीएम ने किया जिक्र?

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘ग्रीन हाइड्रोजन के क्षेत्र में भी हम नेशनल हाइड्रोजन मिशन से आगे बढ़ेंगे. पीएम ने तिरंगे की साक्षी में इस मिशन का भी ऐलान किया और उपलब्धियां गिनवाईं. पीएम मोदी ने अयोध्या विवाद, त्रिपुरा समझौता, वन रैंक वन पेंशन, आजादी के बाद जम्मू कश्मीर में डीडीसीए के चुनाव, विदेशी मुद्रा भंडार, सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक का जिक्र किया.’

भारत पर दुनिया की नजरें टिकीं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ’21वीं सदी का आज का भारत, बड़े लक्ष्य गढ़ने और उन्हें प्राप्त करने का सामर्थ्य रखता है. आज भारत उन विषयों को भी हल कर रहा है, जिनके सुलझने का दशकों से, सदियों से इंतजार था. आज दुनिया, भारत को एक नई दृष्टि से देख रही है और इस दृष्टि के दो महत्वपूर्ण पहलू हैं. एक आतंकवाद और दूसरा विस्तारवाद.’

दोहरी चुनौती से लड़ रहा है भारत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत इन दोनों ही चुनौतियों से लड़ रहा है और सधे हुए तरीके से बड़े हिम्मत के साथ जवाब भी दे रहा है. वो कहते थे कि हमें उतना सामर्थ्यवान बनना होगा, जितना हम पहले कभी नहीं थे. हमें अपनी आदतें बदली होंगी, एक नए हृदय के साथ अपने को फिर से जागृत करना होगा.

कठिन फैसले लेने में नहीं झिझकता भारत

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘आर्टिकल 370 हटाना, जीएसटी लाना, फौजियों के लिए वन पेंशन, अयोध्या का शांतिपूर्वक समाधान यह पिछले कुछ वक्त में देखा. ओबीसी कमीशन को संवैधानिक दर्जा, जम्मू कश्मीर में पहली बार BDC चुनाव भारत की संकल्प शक्ति बताता है. भारत में रिकॉर्ड विदेशी निवेश आ रहा है. सर्जिकल, एयर स्ट्राइक से दुश्मनों को नए भारत का संदेश दिया. यह बताता है कि भारत बदल रहा, भारत कठिन से कठिन फैसले भी ले सकता है, भारत झिझकता नहीं है.’

सेना के हाथ देश करेगा मजबूत

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दूसरे विश्व युद्ध के बाद वैश्विक संबंधों का रूप बदल गया था. कोरोना काल के बाद भी ऐसा हुआ. कोरोना काल के भारत के प्रयासों को दुनिया ने सराहा. दुनिया भारत को नई दृष्टि से देख रही. भारत आतंकवाद, विस्तारवाद दोनों ही चुनौतियों से लड़ रहा. हिम्मत के साथ जवाब भी दे रहा. सेना के हाथ मजबूत करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे.

सैनिक स्कूलों में पढ़ेंगी बेटियां

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मुझे कई गुजारिश मिलीं कि बेटियां भी सैनिक स्कूल में पढ़ना चाहती हैं. दो-ढाई साल पहले मिजोरम के सैनिक स्कूल में प्रयोग के तौर पर बेटियों को एडमिशन देने का फैसला लिया गया था. अब देश के सभी सैनिक स्कूलों में बेटियों का भी एडमिशन हो सकेगा. इन्हें बेटियों के लिए खोल दिया जाएगा. विकास के पथ पर आगे बढ़ते हुए भारत को अपनी मैन्यूफैक्चरिंग और एक्सपोर्ट, दोनों को बढ़ाना होगा. अभी कुछ दिन पहले ही भारत ने अपने पहले स्वदेशी एयरक्राफ्ट कैरियर INS विक्रांत को समुद्र में ट्रायल के लिए उतारा है.

भारत का सामर्थ्य दुनिया में हो रहा उजागर

प्रधाममंत्री मोदी ने कहा कि भारत आज अपना लड़ाकू विमान बना रहा है, सबमरीन बना रहा है, गगनयान भी बना रहा है. ये स्वदेशी मैन्यूफैक्चरिंग में भारत के सामर्थ्य को उजागर करता है. सभी के सामर्थ्य को उचित अवसर देना, यही लोकतंत्र की असली भावना है. जम्मू हो या कश्मीर, विकास का संतुलन अब जमीन पर दिख रहा है. जम्मू-कश्मीर में डी-लिमिटेशन कमीशन का गठन हो चुका है और भविष्य में विधानसभा चुनावों के लिए भी तैयारी चल रही है.

विकास का संतुलन जमीन पर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारा पूर्वी भारत, नॉर्थ ईस्ट, जम्मू-कश्मीर, लद्दाख सहित पूरा हिमालय का क्षेत्र हो, हमारी कोस्टल बेल्ट या फिर आदिवासी अंचल हो, ये भविष्य में भारत के विकास का बड़ा आधार बनेंगे. आज नॉर्थ ईस्ट में कनेक्टिविटी का नया इतिहास लिखा जा रहा है. सभी के सामर्थ्य को उचित अवसर देना, यही लोकतंत्र की असली भावना है. जम्मू हो या कश्मीर, विकास का संतुलन अब जमीन पर दिख रहा है.

‘यही समय है, सही समय है, भारत का अनमोल समय है’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लाल किले की प्राचीर से एक कविता भी पढ़ी उन्होंने कहा- ‘यही समय है, सही समय है, भारत का अनमोल समय है. असंख्य भुजाओं की शक्ति है, यही देश भक्ति है, तुम उठो तिरंगा लहराओ.’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘स्वस्थ भारत और स्वच्छ भारत मिशन के संकल्पों को सतत याद रखना होगा. 2047 में पंद्रह अगस्त के दिन जो भी प्रधानमंत्री ध्वरोहण कर रहे होंगे वो जिन सिद्धियों का जिक्र करेंगे, वो वही होंगे, जो आज हम संकल्प कर रहे हैं. ये हमारी सोच है. समय है साझा स्वप्न, संकल्प और प्रयास का.’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper