प्रेमिका की हत्या करने के बाद बन गया था साधु, टैटू ने पहुंचाया सलाखों के पीछे

नई दिल्ली: प्रेमिका की हत्या के आरोप में पांच साल बाद पकड़ा गया। दरअसल, हत्या के बाद शख्स साधु हो गया था और भगवत कथा करता था। आपको बता दें कि मध्य प्रदेश के छतरपुर में पुलिस ने भागवत कथा सुना रहे एक साधु को प्रेमिका की हत्या करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। बताया जाता है कि आरोपी ने पांच साल पहले अपनी प्रेमिका की हत्या कर दी थी और साधु के भेष में वह छिप गया था।

पुलिस के मुताबिक, 18 अक्टूबर 2013 को भिलाई के रामनगर में एक युवती की लाश मिली थी। उसकी पहचान रीता साहू के रूप में की गई थी। मृतका का प्रेमी सुशील दूबे घटना के बाद से फरार था। आरोपी सुशील ने बताया कि वो रीता से बहुत प्यार करता था। रीता के दूसरे लड़कों से शारीरिक संबंध थे। कई बार मना करने के बावजूद वह उनसे मिलती थी इसलिए सुशील ने गुस्से में उसकी हत्या कर दी थी।

हत्या के बाद आरोपी सुशील साधु बन गया और प्रयागराज में भगवद कथा कथा सुनाने लगा। पांच साल बीत जाने के बाद भी पुलिस को उसके बारे में कोई सुराग नहीं मिला। फिर एक दिन एक फोन कॉल ने उसे सलाखों के पीछे पहुंचा दिया। दुर्ग के एडिश्नल एसपी विजय कुमार पांडेय ने बताया कि आरोपी सुशील, प्रयागराज में हनुमान दास महाराज के नाम से छिपा था। उसके बारे में तब पुलिस को पता लगा जब परिवार के फोन पर हनुमान दास महाराज के बार-बार कॉल आने लगे।

फिर पुलिस ने नंबर ट्रेस करवाकर हनुमान दास महाराज की तलाश शुरू की। वह मध्य प्रदेश के रामकुंड में आयोजित भागवत कथा में आया था। पुलिस ने कई दिन तक उस पर नजर रखी। फिर हाथ पर रीता का टैटू देखकर पुलिस का शक यकीन में बदल गया और उसे गिरफ्तार कर लिया गया। अब उसे फिलहाल जेल भेज दिया गया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper