5-10 गुना सस्ते हैं हमारे वेंटिलेटर्स, इस बाजार में अंतरराष्ट्रीय विक्रेताओं का नेक्सस मजबूत: एगवा हेल्थकेयर

नई दिल्ली: कोरोना वायरस से निपटने के लिए पीएम केयर्स फंड के तहत वेंटिलेटर्स का निर्माण करने वाली कंपनी एगवा हेल्थकेयर का दावा है कि उसके वेंटिलेटर अन्य कंपनियों की तुलना में बेहद सस्ते हैं। कंपनी के को-फाउंडर दिवाकर वैश्य ने बताया कि इस बाजार में अंतरराष्ट्रीय विक्रेताओं का बहुत बड़ा नेक्सस है। एगवा हेल्थकेयर के को-फाउंडर दिवाकर वैश्य ने कहा, ‘हमारा वेंटिलेटर 5-10 गुना सस्ता है, आम तौर पर इसकी कीमत 10-15 लाख होती है, जबकि हमारे वेंटिलेटर की कीमत 1.5 लाख रुपये है। इस बाजार में अंतरराष्ट्रीय विक्रेताओं नेक्सस बहुत मजबूत है, क्या वे स्वदेशी उत्पादों की सफलता की सराहना करेंगे?’

पीएम केयर फंड से 50 हजार वेंटिलेटरों का निर्माण किया जा रहा है। इसमें दस हजार वेंटिलेटर एगवा हेल्थकेयर बना रही हैं। हाल ही में एगवा हेल्थकेयर के वेंटिलेटर्स पर विवाद हो गया था। पीएम केयर्स फंड से बनने वाले 50,000 वेंटिलेटरों में से 30,000 का निर्माण सरकारी उपक्रम भारत इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड कर रही है। वहीं बाकी 20,000 वेंटिलेटरों का निर्माण एगवा हेल्थकेयर (10,000), एएमटीजेड बेसिक (5650), एमएमटीजेड हाइ एंड (4000) और अलाइड मेडिकल (350) कर रही है।

बता दें कि कोरोना वायरस से लड़ाई के लिए बनाए गए पीएम केयर्स फंड की ओर से मई महीने में 2100 करोड़ रुपये वेंटिलेटर्स खरीदने के लिए निर्धारित किए गए थे। ये वेंटिलेटर्स विभिन्न राज्यों के अस्पतालों को दिए जा रह हैं। केंद्र सरकार ने बीते महीने एक बयान जारी कर बताया था कि 50000 मेड इन इंडिया वेंटिलेटरों के निर्माण में से 3000 का निर्माण हो गया है और विभिन्न राज्यों को 1300 से अधिक वेंटिलेटर दिए जा चुके हैं। वहीं, सरकार ने कहा था कि जून महीने के अंत तक अतिरिक्त 14000 वेंटिलेटर सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को सौंपे जाएंगे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper