सभी रेलवे जोन अपने परिसरों से राजनीतिक विज्ञापनों को हटाएं: रेलवे बोर्ड प्रमुख

रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष वीके यादव ने रविवार को रेलवे के सभी जोनों को पत्र लिखकर उनसे रेलवे परिसरों से सभी तरह के राजनीतिक विज्ञापनों को हटाने का निर्देश दिया है। रेलवे से जुड़ी आचार संहिता उल्लंघन की कुछ घटनाओं के बाद यह कदम उठाया गया है।

रेलवे परिसरों से राजनीतिक विज्ञापन हटाने का संदेश सभी जोनल महाप्रबंधक और संभागीय रेलवे को भेजा गया है। इससे कुछ दिन पहले ही रेलवे को आचार संहिता लागू होने के बाद भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर वाली टिकट यात्रियों को देने के मामले में स्पष्टीकरण देना पड़ा था।

दो दिन पहले चाय के कप पर भाजपा का चुनाव प्रचार वाला नारा ‘मैं भी चौकीदार’ लिखा हुआ देखकर हंगामा खड़ा हो गया था। यादव की ओर से जीएम और डीआरएम को संबोधित संदेश में लिखा है, ‘रेलवे की टिकट, रेलवे की स्टेशनरी, रेलवे कोचों, रेलवे स्टेशन और रेलवे के किसी भी परिसर से नेताओं की तस्वीर वाला कोई विज्ञापन तत्काल हटा दिया जाना चाहिए और इस संबंध में विज्ञापन करने वाली एजेंसियों को उपयुक्त जानकारी देनी चाहिए।’

चुनाव आयोग के सूत्रों ने शनिवार को बताया कि रेलवे से आचार संहिता के प्रथम दृष्टया उल्लंघन को लेकर जवाब मांगा गया है। इसके अलावा ‘चौकीदार’ नारे वाले कप बनाने वाले व्यक्ति के बारे में भी जानकारी मांगी है। यह कप 12040 काठगोदाम शताब्दी एक्सप्रेस में मिला था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper