611 दिनों के बाद आज खुला करतारपुर कॉरिडोर, दर्शन के लिए यात्रियों का पहला जत्‍था रवाना

चंडीगढ़ः भारत-पाकिस्‍तान के बीच करतारपुर कारिडोर को 611 दिन बाद आज फिर खोल दिया गया। इसी के साथ ही छह यात्रियों का पहला जत्‍था डेरा नानक से कारिडोर होकर पाकिस्‍तान स्थित गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब के लिए रवाना हुआ। मिली जानकारी के मुताबिक पहले दिन कॉरीडोर से कुछ VIP और सरकारी अफसर करतारपुर साहिब के दर्शन करने जा रहे हैं।

आज जाने वाले कुल 100 अधिकारियों में केंद्र और पंजाब के 50-50 अफसर शामिल हैं। जबकि कल पंजाब के CM सीएम चरणजीत सिंह चन्नी अपनी कैबिनेट के साथ करतारपुर साहिब के दर्शन करेंगे। वहीं जाने वाले अधिकारियों के लिए कोविड वैक्सीन की दोनों डोज लगी होने की शर्त रखी गई है। इसके साथ ही कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। हालांकि आम श्रद्धालुओं को करतारपुर कॉरीडोर से दर्शन के लिए 8 से 10 दिन तक इंतजार करना होगा।

बता दें कि कोरोना के कारण यह कारिडोर पिछले करीब 20 माह से बंद था। वहीं मंगलवार को केंद्र सरकार ने इसे 17 नवंबर से खोलने की घोषणा की थी। कोरोना के कारण 16 मार्च, 2020 को बंद किया गया था। वहीं गुरु श्री नानकदेव के प्रकाश पर्व के मौके पर इस कारिडोर को खोलना सिख श्रद्धालुओं के लिए किसी तोहफे से कम नहीं है।

बता दें कि करतापुर कॉरिडोर करीब 4.5 किलोमीटर लंबा है। इस कॉरिडोर के बनने से भारत में डेरा बाबा नानक और पाकिस्‍तान में मौजूद गुरुद्वारा दरबार साहिब सीधे जुड़ गए हैं। 9 नवंबर 2019 में इस कॉरिडोर का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उद्घाटन किया था। खास बात है कि यहां से पाकिस्‍तान जाने के लिए वीजा की जरूरत नहीं पड़ती।

गौरतलब है कि सरकार का यह कदम रविवार को एक सिख प्रतिनिधिमंडल के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने और कॉरिडोर (गलियारा) को फिर से खोलने का आग्रह करने के बाद आया है। शाह ने कहा कि श्री करतारपुर साहिब करोड़ों देशवासियों की असीम श्रद्धा का केंद्र है और इस कॉरिडोर का फिर से संचालन शुरू करने का निर्णय सिख समुदाय के प्रति मोदी सरकार की संवेदनशीलता को दर्शाता है। मोदी सरकार के इस निर्णय से बड़ी संख्या में सिख तीर्थयात्रियों को फायदा होगा।

शाह ने कॉरिडोर का पुन: संचालन शुरू करने के काम में गति लाने के लिए अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठकें कीं। श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर से तीर्थयात्रा की सुविधा मौजूदा प्रक्रियाओं और कोविड प्रोटोकॉल के पालन के अनुसार प्रदान की जाएगी। भारत ने जीरो प्वाइंट, इंटरनेशनल बाउंड्री पर डेरा बाबा नानक में श्री करतारपुर साहिब कॉरिडोर के संचालन के तौर-तरीकों पर पाकिस्तान के साथ 24 अक्तूबर 2019 को एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इस दौरान विदेश मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय और गृह मंत्रालय के प्रतिनिधियों के साथ पंजाब सरकार के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे।

गृह मंत्री ने कहा, “देश 19 नवंबर को श्री गुरु नानक देव जी के प्रकाश उत्सव को मनाने के लिए पूरी तरह तैयार है और मुझे विश्वास है कि करतारपुर साहिब कॉरिडोर को फिर से खोलने के मोदी सरकार के फैसले से पूरे देश में आनंद और खुशी को बढ़ावा मिलेगा।” केंद्र सरकार की घोषणा के बाद पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने करतारपुर कॉरिडोर को फिर से खोलने के लिए प्रधानमंत्री और केंद्रीय गृह मंत्री को धन्यवाद दिया। अमरिंदर सिंह ने कहा कि कॉरिडोर को फिर से खोलना लाखों अनुयायियों की लंबे समय से लंबित मांग थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper