9 हजार अमीर कर्जदार नहीं लौटा रहे करोड़ों का कर्ज, कैसे आएंगे अच्छे दिन?

लखनऊ ट्रिब्यून दिल्ली ब्यूरो: गरीबो की क्या बिसात। देश के अमीर घराने ही जान बूझकर बैंको के कर्ज नहीं लौटा रहे। ये अमीर इतने ताकतवर हैं कि सरकार को भू चुनौती दे रहे हैं। यह इनकी ताकत ही है कि ये अमीर घराने भारतीय बैंकों द्वारा लोन के रूप में दिए 1,11,738 करोड़ रुपये जानबूझकर नहीं चुका रहे। लोन की यह रकम जिन 9,339 कर्जदारों ने ली वे इसे चुकाने में सक्षम हैं, लेकिन ऐसा नहीं कर रहे। ऐसे लोगों को विलफुट डिफॉल्टर कहा जाता है। क्रेडिट इंफॉर्मेशन ब्यूरो ऑफ इंडिया लिमिटेड (सीआईबीआईएल) से मिले डेटा के मुताबिक कर्ज के इस आंकड़े में सरकारी बैंकों की हिस्सेदारी 93,357 करोड़ रुपये है। साल 2013 में यह रकम 25,410 करोड़ रुपये थी. यानी बीते पांच सालों में इसमें 340 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है।

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक आरबीआई ने अभी तक सभी कर्जदारों के नामों की लिस्ट जारी नहीं की है। पिछले साल आरबीआई ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि वह उन कर्जदाताओं के नामों की लिस्ट सार्वजनिक किए जाने के पक्ष में नहीं है जिन्होंने सरकारी बैंकों से 500 करोड़ रुपये से ज्यादा का कर्ज ले रखा है।

11,400 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आने के बाद सुर्खियों में आए पंजाब नेशनल बैंक के भी 12,574 करोड़ रुपये विलफुट डिफॉल्टरों पर बकाया हैं। इनमें विनसम डायमंड (899 करोड़ रुपये), नेफ्ड (224 करोड़ रुपये) और एपल इंडस्ट्रीज (248 करोड़ रुपये) शामिल हैं। वहीं, देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) में ऐसे कर्जदारों की संख्या सबसे ज्यादा है। खबर के मुताबिक एसबीआई के ऐसे 1,665 कर्जदारों पर 27,716 करोड़ रुपये का कर्ज है।

सीआईबीआईएल के डेटा के मुताबिक इसके सबसे बड़े विलफुल डिफॉल्टरों में किंगफिशर एयरलाइन (1286 करोड़ रु), कैलिक्स केमिकल्स (327 करोड़), जेबी डायमंड (208 करोड़), स्पैन्को (347 करोड़), जेनिथ बिरला (139 करोड़), श्रीम कॉर्पोरेशन (283 करोड़), जूम डेवलपर्स (378 करोड़), फर्स्ट लीजिंग (403 करोड़) और जेट इंजीनियरिंग (406 करोड़) शामिल हैं।

एसबीआई के अलावा आईडीबीआई बैंक के खाते में 83 विलफुल डिफॉल्टर हैं। इन्होंने कुल 3,659 करोड़ रुपये के लोन ले रखे हैं। इनमें रीड एंड टेलर (206 करोड़ रु), एस कुमार नेशनवाइड (834 करोड़) और डेक्कन क्रॉनिकल (269 करोड़) सबसे बड़े डिफॉल्टर हैं। वहीं, बैंक ऑफ इंडिया के 314 विलफुल डिफॉल्टरों ने 6,104 करोड़ रुपये का कर्ज ले रखा है। इनमें रीड एंड टेलर (236 करोड़ रु), फॉरेवर प्रेशयस डायमंड (158 करोड़) और मोहन जेम्स (158 करोड़) बड़े डिफॉल्टरों में शामिल हैं। उधर, बैंक ऑफ बड़ौदा के 432 करोड़ रुपये किंगफिशर एयरलाइन और 362 करोड़ रुपये एबीसी कॉट्स्पिन द्वारा नहीं चुकाए जा रहे।

आरबीआई ने सीआईबीआईएल जैसे अन्य क्रेडिट इंफॉर्मेशन ब्यूरो को ऐसे कर्जदारों की पहचान बताने की अनुमति दी है जो जानबूझकर कर्ज नहीं चुका रहे या जिनके खिलाफ बैंकों ने मुकदमे दायर कर रखे हैं। जानकारी के मुताबिक बैंकों ने 16,844 एनपीए खाताधारों के खिलाफ मुकदमे किए हुए है। इन सब पर कुल 2,59,991 करोड़ रुपये का कर्ज चढ़ा हुआ है. ऐसे सबसे ज्यादा कर्जदार एसबीआई के हैं। उसके 3,684 कर्जदारों पर 74,649 करोड़ रुपये चढ़े हुए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper