अपनाएं यह टिप्स, नॉर्मल रहेगा ब्लड प्रेशर

सामान्य इंसान के दिल की धड़कन 60 से 90 बीट प्रति मिनट (बीएमपी) होती है, इससे ऊपर या नीचे होने पर दिल को गंभीर खतरा होता है। बहुत तेज धड़कनों को टेककार्डिया और धीमी धड़कनों को ब्रैडीकार्डिया कहते हैं। इन खतरों को देखते हुए हृदय गति को सामान्य बनाए रखना बेहद जरूरी होता है। आइये हम आपको बताते हैं ऐसे तरीके जिनसे आप अपनी बढ़ी हुई हृदय गति को सामान्य कर सकते हैं।

पानी खूब पियें

जब आपके शरीर में पानी की कमी होती है यानि शरीर डिहाइड्रेट होता है तो दिल की धड़कन असामान्य हो जाती है। इसका कारण ये है कि अगर शरीर में पानी की कमी होगी तो हार्ट को ब्लड को शरीर के सभी हिस्सों तक फ्लो करने के लिए ज्यादा ताकत लगानी पड़ती है। इसलिए ऐसे समय में धड़कन सामान्य से ज्यादा बढ़ जाती है। इस स्थिति से बचने के लिए आपको पेय पदार्थों का भरपूर सेवन करना चाहिए। लेकिन ध्यान दें कि पेय पदार्थों का मतलब चाय, कॉफी और शरबत ही नहीं है क्योंकि कैफीन और शुगर वाली चीजों के ज्यादा सेवन से कई अन्य बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

नमक वाले पदार्थों का सेवन न करें

नमक में मौजूद सोडियम तत्व ब्लड प्रेशर को बढ़ाता है इसलिए अगर आपको दिल की बीमारियों से बचना है तो आपको नमक का प्रयोग बहुत सीमित कर देना चाहिए। नमक का ज्यादा सेवन आपका ब्लड प्रेशर बढ़ा देता है जिससे हृदय में ब्लड ज्यादा मात्रा में पहुंचने लगता है। ज्यादा मात्रा में ब्लड होने से दिल को इसे जल्दी-जल्दी पंप करना पड़ता है और इससे हृदय गति बढ़ जाती है।

मोटापे पर नियंत्रण जरुरी

मोटापा कई गंभीर बीमारियों की जड़ है। इससे डायबिटीज और दिल की बीमारियों की संभावना बहुत बढ़ जाती है। हार्ट रेट को सही बनाए रखने व हृदय गति को ठीक रखने के लिए अपने वजन को नियंत्रण में रखना बेहद जरूरी होता है। मोटापा दिल से संबंधित कई बीमारियों की वजह बनता है। अपनी लंबाई के हिसाब से अपना वजन नियंत्रित रखें। अपने वजन पर नियमित रूप से नजर बनाए रखें और इसे कंट्रोल करने के लिए नियमित एक्सरसाइज करें।

तनाव से रहें दूर

तनाव भी दिल की बीमारियों की एक बड़ी वजह है क्योंकि इसकी वजह से भी दिल की धड़कन असामान्य हो जाती है। इसलिए खुद को तनाव से दूर रखें। सुनने में ये जितना आसान है, वास्तविकता में उतना आसान नहीं है। लेकिन असंभव कतई नहीं, क्यों कोई चीज जब तक मुश्किल होती है जब तक कि उसकी शुरुआत न की जाए। अपने काम और पर्सनल लाइफ के बीच सामंजस बैठायें और तनाव को दूर करें। आप बेशक करियर पर ध्यान दें पर जिंदगी का भी आनंद उठायें। योगासन और प्रणायाम इसमें लाभकर होता है।

व्यायाम जरूर करें

रोजाना कम से कम आधा घंटा एक्सरसाइज जरूर करें। इससे दिल और शरीर दोनों स्वस्थ रहते हैं। एक्सरसाइज करने से शरीर की आर्टरीज लचीली बनती हैं। जिससे शरीर में रक्त का प्रवाह बेहतर होता है और दिल को मजबूती मिलती है। इसके लिए जिम जाना ही जरूरी नहीं, रोजाना मात्र आधा घंटा पैदल चलना भी काफी होता है।

शरीर को डीटॉक्सीफाई करते रहें

अवांछित रसायनों और विषाक्त पदार्थों के शरीर में जमा होने से भी हमारे हृदय की दर धीमी होती है। इसलिए शरीर को साफ रखने के लिए समय-समय पर इसे डीटॉक्सीफाई करते रहें। ऐसे भोज्य पदार्थों को डाइट में शमिल करें जो शरीर के डीटॉक्सिफिकेशन में मदद करते हैं। धूम्रपान और शराब से दूर रहें, ये विषाक्त पदार्थों के सबसे बड़े स्रोत होते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper