CBI कोर्ट के समक्ष आडवाणी का बयान, अयोध्या में विवादित ढांचे के विध्वंस में मेरी कोई भूमिका नहीं-सब पालिटिक्स का गेम

लखनऊ: अयोध्या में विवादित ढांचे को गिराए जाने के मामले में खुद को निर्दोष करार देते हुए पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी ने कहा कि उन पर लगाए गए आरोप राजनीति से प्रेरित थे। वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिये सीबीआई की विशेष अदालत में पेश हुए आडवाणी ने शुक्रवार को अपने बयान दर्ज कराए। उन्होंने खुद पर लगाए गए आरोपों से इंकार करते हुए कहा कि विवादित ढांचे के विध्वंस में उनकी कोई भूमिका नहीं थी। उन पर आरोप राजनीतिक कारणों से लगाए गए थे।

बाबरी विध्वंस मामले में कुल 32 आरोपियों के बयान दर्ज होने हैं जिनमें अब तक 29 के बयान दर्ज हो चुके हैं। लगभग चार घंटे तक चली सुनवाई में सीबीआई ने लालकृष्ण आडवाणी के लिए 1000 से ज्यादा सवाल तैयार किए थे। उच्चतम न्यायालय के निर्देशानुसार विशेष अदालत को इस मामले का 31 अगस्त तक निस्तारण करना है। अदालत इस मामले की नित्य प्रतिदिन सुनवाई कर रही है। इससे पहले भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी ने इस मामले में गुरुवार को अपना बयान दर्ज कराया था।

उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद अयोध्या में राममंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त पहले ही हो चुका है। अयोध्या में राममंदिर का भूमिपूजन पांच अगस्त को प्रधानमंत्री मंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में होगा। इस मामले में उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह और भाजपा नेता एवं मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती ने भी हाल ही में अपने बयान दर्ज कराये हैं। इसके बाद आरोपियों को अपनी सफाई और साक्ष्य पेश करने का अवसर दिया जाएगा। गौरतलब है कि अयोध्या में 6 दिसम्बर 1992 को कारसेवकों की भीड़ ने विवादित ढांचे को गिरा दिया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper