आखिर माँ बनने में क्यों आती है समस्या, महिलाओं-पुरुषों से जुड़ी यह खबर आपको कर सकती है खबरदार

अक्सर देखा गया है कि शादी के कई सालों के बाद भी महिला की गोद सूनी रहती है। द वर्ल्ड पॉपुलेशन प्रॉस्पेक्ट्स 2017 की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले कुछ सालों में गर्भधारण न कर पाने के मामलों में करीब 20 फीसदी की वृद्धि हुई है। ऐसा सिर्फ महिलाओं में फर्टिलिटी कम होने से नहीं, बल्कि पुरुषों की फर्टिलिटी में गिरावट होने के कारण भी हुआ है। दंपती में इनफर्टिलिटी की समस्या देखने को मिल रही है। इसका प्रतिशत 50-50 है। यानी 50 फीसदी समस्या महिलाओं में तो 50 फीसदी पुरुषों में दिक्कत होने के कारण ऐसा हो रहा है। इस समस्या में आइवीएफ ट्रीटमेंट कारगर उपाय है, हालांकि अभी भी ग्रामीण क्षेत्रों में इसके प्रति जानकारी का काफी अभाव है।

महिलाओं की प्रजनन आयु 20-44 साल के अनुपात में वृद्धि हुई है, लेकिन ऐसी महिलाएं जो करीब 30 वर्ष की हैं, वे भी इनफर्टिलिटी की समस्या से जूझ रही हैं। बदलती जीवनशैली के साथ कॉन्ट्रासेप्टिव्स का अत्यधिक इस्तेमाल और पुरुषों में भी नपुंसकता की बढ़ती समस्या भारत में इनफर्टिलिटी की समस्या को 2020 तक बढ़ाने के प्रमुख कारण हैं।

क्यों होता है ऐसा
इनफर्टिलिटी के प्रमुख कारणों में सबसे बड़ा है कि महिलाओं में जन्म से ही लाइफटाइम एग्स रिजर्व रहते हैं, लेकिन इसमें धीरे-धीरे क्वालिटी और क्वांटिटी दोनों स्तर पर गिरावट देखी जाती है। इसका बड़ा कारण खुद को शारीरिक गतिविधियों में सक्रिय न रखना भी है। इसके अलावा ज्यादातर महिलाएं अपने कार्यक्षेत्र और कैरियर पर फोकस कर रही हैं.

ऐसे में महिलाएं जॉब में सेटल होने के बाद गर्भधारण की प्लानिंग करती हैं, लेकिन बॉडी की बायोलॉजिकल क्लॉक के डिस्टर्ब होने और उम्र में बढ़ोतरी होने के कारण फर्टिलिटी घट रही है। साथ ही पाश्चात्य संस्कृति से प्रभावित होने के कारण अब महिलाएं भी अल्कोहल और तंबाकू का सेवन करती हैं। जंक फूड का सेवन और फिजिकल एक्टिविटी से दूरी लाइफ स्टाइल में शामिल हैं। इस कारण महिलाओं में मोटापे के मामले बढ़ रहे हैं, जिससे फर्टिलिटी रेट घट रही है। तो फिर आप भी तुरंत सावधान हो जाएँ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper