अखिलेश के साथ खड़े हुए मुलायम, तो शिवपाल मोर्चे को आगे बढ़ाने में जुटे

लखनऊ। दिल्ली में बड़े भाई मुलायम सिंह यादव को बेटे अखिलेश यादव के साथ खड़े देखा, तो शिवपाल यादव अपने समाजवादी सेक्युलर मोर्चे को धार देने में जुट गये। इसी कड़ी में उन्होंने सोमवार को 14 मंडलों के प्रभारी बना डाले। जल्द ही वह अपने संगठन को विस्तार देने के लिए वह और कदम उठायेंगे। इसी परिप्रेक्ष्य में वह 3० सितम्बर को कानपुर में मोर्चे के कार्यालय का उद्घाटन करेंगे और इस अवसर पर जनसभा को भी सम्बोधित करेंगे।
समाजवादी सेक्युलर मोर्चा ने जिस तरह से अपनी गतिविधियां बढ़ाई हैं, उससे यही लगता है कि मोर्चा अखिलेश को नुकसान पहुंचाने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगा। मोर्चे ने इसीलिए सपा के पुराने नेताओं को भी साधना शुरू कर दिया है। वह इटावा से दो बार सांसद और एक बार विधायक रहे रघुराज सिंह शाक्य को अपने खेमे में ला भी चुका है। मोर्चा ने उन्हें कानपुर महानगर का प्रभारी बनाकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के इस क्षेत्र में मोर्चे को मजबूती प्रदान करन की जिम्मेदारी भी डाल दी है। शाक्य कह भी रहे हैं कि सपा के जितने भी संघर्षशील नेता हैं, वे सभी मोर्चे के साथ आ रहे हैं। उनके मुताबिक वह जल्द ही कानपुर शहर पहुंचेंगे और मोर्चा से जुड़े लोगों के साथ बैठक करेंगे, क्योंकि मोर्चा आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर तैयारी कर रहा है।
समाजवादी पार्टी के सरंक्षक मुलायम सिंह यादव ने 23 सितम्बर को नई दिल्ली में अखिलेश सिंह यादव के समारोह में शिरकत की थी। इससे पहले शिवपाल सिंह यादव को उम्मीद थी कि नेताजी उनके साथ आएंगे। इसी कारण उन्होंने मोर्चे के झंडे पर मुलायम सिंह की फोटो को स्थान दिया था। हालांकि जब मुलायम ने खुद ही साफ कर दिया कि वह अपने बेटे अखिलेश के साथ हैं, तो शिवपाल के सामने मोर्चे को आगे बढ़ाने के लिए और कोई रास्ता नहीं बचा है, क्योंकि वह समाजवादी पार्टी से नाता तोड़ चुके हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper