अन्विता ने पूरा किया बचपन का सपना, जानिए कैसे बनीं सीए में लखनऊ की टॉपर

लखनऊ ट्रिब्यून ब्यूरो : अन्विता गुप्ता ने बचपन में एक ख्वाब देखा था, अपने पिता की तरह चार्टर्ड अकाउंटेंट बनने का। कहते हैं कि अगर कुछ करने की ठान ली है तो फिर वह मुकाम हासिल मुश्किल नहीं रह जाता। कुछ ऐसा ही हुआ अन्विता के साथ। इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंटेंट्स ऑफ इंडिया (आईसीएआई) ने जब बुधवार को चार्टर्ड अकाउंटेंट्स फाइनल एग्जामिनेशन व कॉमन प्रोफिशिएंसी टेस्ट (सीपीटी) नवम्बर 2०17 के नतीजे जारी किए तो अन्विता का बचपन का ख्वाब पूरा हो गया। इस कड़े इम्तेहान में लखनऊ के करीब 5० बच्चों का सीए बनने का सपना पूरा हो गया। अन्विता ने 8०० में से 477 अंक हासिल कर लखनऊ में टॉप किया है।
कॉमर्स की पढ़ाई करने वाले हर छात्र-छात्रा का बस एक ही सपना होता है और वह सीए बनने का। हालांकि चार्टर्ड अकाउंटेंट बनना इतना आसान भी नहीं है। लखनऊ की अन्विता ने न केवल अपना यह सपना पूरा किया, बल्कि लखनऊ में नंबर वन बनकर यह साबित कर दिया कि जहां चाह होती है, वहां राह निकल आती है। छोटा भाई शिखर भी सीए की पढ़ाई कर रहा है। अन्विता के पिता धर्मेंद्र कुमार खुद भी सीए हैं, जबकि मां विनीता गुप्ता घर संभालती हैं। अन्विता कहती हैं कि 1०वीं में आने के साथ ही उसने तय कर लिया था कि बस केवल सीए बनना है। अन्विता ने अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए दिन-रात पढ़ाई की। घर-परिवार के कार्यक्रमों और दोस्तों तक से दूरी बनाकर सिर्फ किताबों की दुनिया में ही खो गई। और, इसी का नतीज बुधवार को आया जब उसने लखनऊ में सीए की परीक्षा में टॉप करके अपने परिवार और नवाबी शहर का नाम रोशन कर दिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper