बाराबंकी बाल सुधार गृह भेजी गयी आरोपित छात्रा, प्रिंसिपल गिरफ्तार

लखनऊ। ब्राइटलैंड कालेज में क्लॉस-1 के छात्र ऋतिक (6) पर चाकू से ताबड़तोड़ हमले कर बाथरूम में बंद करने के मामले में बृहस्पतिवार को पुलिस ने प्रिंसिपल रचित मानस को साक्ष्य मिटाने का दोषी पाते हुए गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया, जहां उसे जमानत पर रिहा कर दिया गया। पुलिस ने आरोपित कक्षा-7 की छात्रा को भी निगरानी में लिया। बाल कल्याण अधिकारी, विशेष किशोर इकाई, चाइल्ड हेल्प लाइन व एनजीओ द्वारा छात्रा की काउंसलिंग की गयी और किशोर न्याय बोर्ड में पेश किया गया। वहां से छात्रा को बाराबंकी के बाल सुधार गृह भेज दिया गया है। शुक्रवार को उसे जुबेनाइल कोर्ट मे पेश किया जाएगा।

एसएसपी दीपक कुमार ने बताया कि आरोपित छात्रा की उम्र महज 11 साल है। पड़ताल में सामने आया कि छात्रा पूर्व में दो बार घर से भाग चुकी है। एक बार वह घर से नकदी व जेवर लेकर भागी,लेकिन बाद में उसे घरवालों ने खुद ही ढूंढ निकाला था। जबकि दूसरी बार पुलिस ने छात्रा को शाहजहांपुर के तिलहर से बरामद किया था। छात्रा की मानसिक हालत का अध्ययन करने के लिए काउंसलिंग करायी जाएगी। छात्रा की पहचान ट्रामा सेंटर में भर्ती बच्चे ऋतिक ने फोटो के आधार पर की है। घटनास्थल पर जब पड़ताल की गयी तो बाथरूम में सब्जी काटने वाला खून लगा चाकू, छात्रा का एक जूता व दुपट्टा मिला था।

दुपट्टे से ही छात्र के हाथ बांधे गये थे। उनका कहना है कि चाकू, जूता, दुपट्टा, बच्चे की स्कूल ड्रेस, बनियान, स्वेटर, ब्लेजर व ब्लेजर पर लगे कुछ बाल को फोरेंसिक टीम ने कब्जे में लिया था। बाल छात्रा के हो सकते हैं, इसलिए इसे जांच को विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजा गया है। छात्रा के बाल के भी नमूने लिये गये हैं। इन बालों का डीएनए मिलान कराया जाएगा। ब्राइटलैंड के प्रिंसिपल रचित मानस ने घटना को छिपाने के साथ ही साक्ष्य मिटाने का आरोपी पाया गया है। उनके खिलाफ धारा 201 व 202 आईपीसी की धारा लगी है। आरोपित प्रिंसिपल निवासी सेक्टर-के अलीगंज को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने उन्हें विशेष सीजेएम कस्टम छवि अस्थाना की कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे 20-20 हजार के बांड पर जमानत देकर रिहा कर दिया गया।

ट्रामा सेंटर में भर्ती ऋतिक ने कहा था कि दीदी ने ही उस पर हमला किया था। दीदी स्कूल में ही पढ़ती हैं और उनके बाल कटे हैं। सभी की फोटो व्हाट्सएप पर लेकर रितिक को अस्पताल में दिखायी गयी तो उसने कक्षा-7 की एक छात्र को पहचान लिया। पुलिस को एक सीसीटीवी कैमरे का फुटेज भी मिला, जिसमें छात्रा दिखी है। हालांकि उक्त फुटेज बाथरूम या उसके बाहर की गैलरी का नहीं है।पुलिस ने बृहस्पतिवार को छात्रा की मानसिक स्थिति पता करने के लिए जांच की। छात्रा त्रिवेणीनगर में ही रहती है। पिता सरकारी विभाग में कार्यरत हैं। उसकी चार बहनें भी हैं। इंस्पेक्टर बृजेश सिंह ने बताया कि छात्रा पूर्व में दो बार घर से भाग चुकी है। पहली बार 29 सितम्बर को घर से भागी थी।

पिता ने मोबाइल पर डांटा था। परिजनों ने थाने पर रिपोर्ट दर्ज करायी। खोजबीन की गयी तो दो दिन बाद घरवालों ने उसे चारबाग स्टेशन से बरामद कर लिया था। करीब 12 दिन बाद 11 नवम्बर को फिर से छात्रा घर से भाग गयी थी। इस पर वह ट्रेन पर बैठकर पंजाब गयी। वहां से फिर शाहजहांपुर लौटी। छात्रा शाहजहांपुर के तिलहर से लावारिस हालत में मिली थी।

पुलिस ने करीब पांच दिन बाद उसे बरामद कर घरवालों के सुपुर्द कर दिया था। इंस्पेक्टर का कहना है कि दोनों ही मामलों में रिपोर्ट दर्ज की गयी थी। एक मामले में छात्रा घर से जेवर व नकदी लेकर भागी थी। परिजनों का कहना है कि दूसरी बार पड़ोसी ने छात्रा पर कमेंट किया था कि पता नहीं कैसी लड़की है, जो घर से भाग गयी थी। उसके बाद भी घरवाले साथ में रखे हैं। इस पर छात्रा आहत हुई और घर से भाग निकली थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper