बालकृष्ण दोशी प्रित्जकर पुरस्कार जीतने वाले पहले भारतीय बने

शिकागो। भारतीय वास्तुकार बालकृष्ण दोशी को 2०18 के प्रित्जकर पुरस्कार से नवाजा गया है। उन्हें यह पुरस्कार वास्तुकला के क्षेत्र में दिया गया।

प्रित्जकर पुरस्कार को वास्तुकला की दुनिया का नोबेल पुरस्कार भी कहा जाता है। लंबे समय तक भारत के सबसे लोकप्रिय वास्तुकार और शहरी नियोजकों में से एक रहे दोशी को व्यापक तौर पर किफायती हाउसिंग परियोजनाओं के लिए जाना जाता है।
पुणे के वास्तकुार को उनके असाधारण कार्य, अपने देश और समुदाय के प्रति प्रतिबद्धता और निष्ठा के लिए दिया गया है। दोशी ने कहा, ’मेरा काम, मेरे सिद्धांत और मेरे सपने मेरी जिंदगी का विस्तार हैं। मैं यह पुरस्कार अपने गुरु चाल्र्स एडवर्ड जीननेरेट के लिए जीतना चाहता था।’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper