बंगाल में लोगों से जुड़ने के लिए भाजपा ने शुरू किया ‘नब बंगो’ अभियान

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने सन 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में ममता बनर्जी का बंगाल का किला ध्वस्त करने के लिए सियासी बिसातें बिछानी शुरू कर दी हैं। भाजपा और संघ की तैयारी है कि ममता सरकार के खिलाफ बंगाली मानुष, बुद्धिजीवियों और कार्यकर्ताओं को खड़ा कर एक व्यापक जनांदोलन का रूप दिया जाए, जिससे लोकसभा चुनाव तक राज्य भर में ममता बनर्जी सरकार के खिलाफ माहौल बन सके।

इस आंदोलन के लिए भाजपा और संघ राज्य के कला, फिल्म, खेल समेत अन्य क्षेत्रों से जुड़े बुद्धिजीवियों और इन क्षेत्रों में सक्रिय एनजीओ का सहारा लेगी। इस आंदोलन का स्वरुप गैर-राजनीतिक रहे इसलिए भाजपा और संघ पर्दे के पीछे से योजना, तैयारी, क्रियान्वयन और सहयोग समेत हर जरुरी मदद मुहैया कराएगा। इसके लिए पूरे पश्चिम बंगाल में एक अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान का नाम होगा, ”नब बंगो” यानि नया बंगाल अभियान। 28 जनवरी को कोलकाता स्थित ऑडिटोरियम में इस अभियान की शुरुआत की जाएगी।

कार्यक्रम के लिए ऑडिटोरियम का चुनाव इसलिए किया गया है, क्योंकि ये केंद्र सरकार के अधीन है ताकि कहीं अंतिम समय में प्रशासन मंजूरी से इंकार न कर दे। इस कार्यक्रम में केंद्र सरकार के कुछ मंत्रियों और संघ के नेताओं को भी न्योता भेजा गया है, हालांकि कार्यक्रम के गैर-राजनीतिक रुप को बनाए रखने के लिए संघ और भाजपा के नेता मंच पर नहीं होगें। गैर राजनीतिक स्वरुप रखकर पार्टी चाहती है कि अभियान में शामिल एनजीओ, बुद्धिजीवियों और कार्यकर्ताओं को प्रशासन या ममता सरकार बेवजह भाजपा के साथ जुड़ने के नाम पर परेशान नहीं करे।

इस अभियान के तहत पश्चिम बंगाल के हर जिले में ‘नब बंगा अड्डा’ का आयोजन करेगी जिसके तहत अभियान से जुड़े कार्यकर्ता बंगाल के हर जिले में जाकर लोगों को बंगाल के गौरवशाली इतिहास, संस्कति, संस्कार के साथ-साथ मौजूदा सामाजिक-आर्थिक हालात और दुर्दशा की याद दिलाएंगे और साथ ही कैसे वामपंथी और टीएमसी के शासन में उसको मिटाने की कोशिश की गई है, उसको लेकर जागरुक करेंगे। हर जिले में इस अड्डा के जरिए ममता सरकार के खिलाफ और भाजपा के पक्ष में माहौल बनाने की कोशिश की जाएगी।

कार्यकर्ता जनता को मोदी सरकार के काम, योजनाओं की जानकारी देंगे और बताएंगे कि कैसे मोदी सरकार की योजनाओं के लाभ से बंगाल के लोगों को दूर रखा जा रहा है। टीएमसी के मंत्रियों और सासंदों पर भ्रष्टाचार के आरोंपो को भी जनता को याद दिलाया जाएगा। जिलों में इस अड्डा के आयोजन के दौरान केंद्र सरकार के मंत्रियों और संघ के नेताओं को भी जनता से संवाद करने के लिए बुलाया जाएगा। इसका एक मकसद बंगाल के हर जिले में भाजपा और संघ का एक समर्पित कैडर तैयार करना भी है।

भाजपा और संघ अच्छी तरह जानते हैं कि यूपी, गुजरात, राजस्थान समेत उन राज्यों में जहां 2014 में भाजपा का स्ट्राईक रेट 100 प्रतिशत या उसके करीब था, वह सन 2019 के लोकसभा चुनाव में घट सकता है। लिहाजा बंगाल जैसे राज्य जहां भाजपा ने सिर्फ 2 सीट जीती थीं, वहां अच्छा प्रदर्शन कर इस कमी की भरपाई करते हुए एक बार फिर केंद्र में सरकार बनाई जा सकती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper