बीएसएफ ने चार दिनों में दागे 9 हजार मोर्टार, कई पाक चौकियां तबाह

जम्मू। सीमा पर पाक सैनिकों द्वारा किए जा रहे युद्ध विराम के उल्लंघन का बीएसएफ ने करारा जवाब देते हुए बीते चार दिनों में नौ हजार मोर्टार शेल दागकर कई पाक चौकियां तबाह कर दिया है। भारत की इस जवाबी कार्रवाई से पाकिस्तान के सेना प्रमुख बौखला गए हैं। जिसके बाद पाक सेना प्रमुख जावेद बाजवा ने सीमा का दौरा किया है।

बीएसएफ ने आतंक को जवाब देने वाले दो छोटे-छोटे वीडियो जारी किए हैं। वीडियो इस बात का सबूत देते हैं कि पाकिस्तान की फायरिंग में शहीद पांच जवान सहित 12 भारतीय की चिता की आग शांत होने से पहले बीएसएफ ने पाकिस्तान के चौकियों को आग के हवाले कर हिंदुस्तान ने इंतकाम ले लिया। सोमवार को बीएसएफ ने बताया जवानों ने जम्मू रीजन में पाकिस्तान की कई फायरिंग पोजिशन को तबाह किया। उन चौकियों को निशाना बनाया जहां से पाक रेंजर्स के लिए गोला-बारूद और ईंधन की आपूर्ति की जा रही थी।

इसे भी पढ़िए: गणतंत्र दिवस को लेकर लखनऊ एयरपोर्ट पर 30 तक एंट्री टिकट बन्द

पाकिस्तान की तरफ से 18 जनवरी से लगातार युद्ध विराम का उल्लंघन किया जा रहा है। नियंत्रण रेखा से लेकर अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर पाकिस्तान लगातार मोर्टार शेल दाग रहा है। पाकिस्तान ने सीमा से सटे रिहायशी इलाकों को भी निशाना बनाया है। पाकिस्तान की कायरना हरकत का जवाब जब भारत ने इस अंदाज में दिया तो पाक सेना प्रमुख जावेद बाजवा बौखला गए और सेना का हालचाल लेने सीमा पर पहुंचे।

उन्होंने कहा सन 2003 में हुए युद्ध विराम समझौते का पाकिस्तान बंधा नहीं रहेगा। भारत की ओर से दिखाए गए किसी भी आक्रमक रवैये का पाकिस्तान जवाब देने में सक्षम है। पाक के सेना प्रमुख की बातों से साफ है कि बीएसएफ के 9000 मोर्टार शेल ने पाकिस्तान को ये सोचने पर मजबूर कर दिया है कि वह अपने हरकतों से बाज आए। मासूमों का खून बहाने के बाद अब पाकिस्तान को सन 2003 का समझौता याद आने लगा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper