CID की टीम मोतिहारी के ‘हाथरस कांड’ की जांच के लिए पहुंची, चौकीदार बोला- थानाध्यक्ष को दी थी सूचना

 

मोतिहारी: पूर्वी चंपारण के कुंडवाचैनपुर में हुए ‘हाथरस कांड’ की जांच सीआईडी भी कर रही है। यहां 21 जनवरी को नाबालिग नेपाली बच्ची को गैंगरेप के बाद शव को जबर्दस्ती जला दिया गया था। पूरे मामले में कुंडवाचैनपुर के तत्कालीन थानाध्यक्ष संजीव रंजन की मिलीभगत सामने आई है। उनका एक ऑडियो वायरल हुआ, जिसके बाद उनको सस्पेंड कर दिया गया। मामले की जांच के लिए सीआईडी की एक टीम मंगलवार को पटना से कुंडवाचैनपुर पहुंची। एसपी वीणा कुमारी और सीनियर डीएसपी ममता कल्याणी सहित टीम ने घटना की जांच की।

घटनास्थल का मुआयना किया। जहां पर शव को जलाया गया था, वहां पर भी टीम गई। चौकीदार, आसपास के दुकानदार और नर्सिंग होम के डॉक्टरों से पूछताछ की। कुंडवाचैनपुर थाने की सीसीटीवी फुटेज को भी खंगाला गया। पूछताछ में चौकीदार ने बताया गया कि उसने घटना के दिन ही थानाध्यक्ष को सूचना दिया था। लेकिन कार्रवाई क्यों नहीं की गई, इसके बारे में नहीं मालूम। सिकरहना डीएसपी और मौजूदा थानाध्यक्ष से कार्रवाई की जानकारी भी सीआईडी की टीम ने ली।

तत्कालीन थानाध्यक्ष संजीव रंजन पर भी शिकंजा
तत्कालीन थानाध्यक्ष संजीव रंजन का ऑडियो वायरल होने के बाद एसपी नवीन चंद्र झा ने निलंबित कर दिया। ऑडियो की जांच के लिए सिकरहना डीएसपी को जिम्मेदारी दी गई है। जांच रिपोर्ट मिलने पर थानाध्यक्ष पर प्राथमिकी दर्ज करने की बात कही गई है। वहीं आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए आठ सदस्यीय एसआईटी का गठन किया गया है। एसपी ने डीएसपी को निर्देश दिया है कि मामले में सभी आरोपियों की गिरफ्तारी जल्द से जल्द हो। जो लोग फरार है उनके खिलाफ कुर्की-जब्ती की कार्रवाई की जाए।

क्या है मोतिहारी का ‘हाथरस कांड’?
पूर्वी चंपारण (मोतिहारी) जिले के कुंडवा बाजार में 21 जनवरी को 12 साल की बच्ची के साथ गैंगरेप कर हत्या कर दी गई। बच्ची की हत्या के बाद आरोपियों ने थानाध्यक्ष संजीव रंजन के साथ मिलकर सेटल कर लिया। बच्ची के शव को आधी रात को जला दिया। मृत बच्ची के माता-पिता को डरा धमका कर चुप करा दिया। नेपाल भगा दिया गया। घटना के एक सप्ताह के बाद मृत बच्ची के पिता ने सिकरहना एसडीपीओ को आवेदन देकर प्राथमिकी दर्ज करने का आग्रह किया। इसी बीच कुंडवाचैनपुर थानाध्यक्ष संजीव रंजन और आरोपी के बीच बच्ची के शव को ठिकाने लगाने को लेकर हो रही बातचीत का ऑडियो वायरल हो गया। दरिंदगी की शिकार हुई बच्ची के पिता नेपाल के रहने वाले हैं।

रात में नाइट गार्ड का काम करते थे और दिन में घूम-घूमकर चाय बेचते थे। 21 जनवरी को जब उनकी बेटी घर में अकेली थी और पत्नी नेपाल अपने गांव गई थी। इसी दौरान कुंडवाचैनपुर के रहने वाले विनय साह, दीपक कुमार साह, देवेंद्र कुमार साह और रमेश साह ने बच्ची के साथ गैंग रेप किया और फिर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद कुंडवाचैनपुर के थानाध्यक्ष ने अपराध के साथ-साथ सबूत को भी मैनेज कर दिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper