तीन शिशुओं की मौत पर सीएम योगी गंभीर, दिए जांच के आदेश

लखनऊ: डा. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में 24 घंटे के भीतर तीन नवजात शिशुओं की मौत के मामले को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान ले लिया है। मुख्यमंत्री ने इसको गंभीरता से लेते हुए जांच के आदेश दे दिए हैं। जांच का जिम्मा स्वास्थ विभाग के प्रमुख सचिव को सौंपा गया है। जांच के आदेश के बाद अस्पताल की स्त्री रोग विभाग से लेकर प्रशासनिक अधिकारियों में हड़कम्प मच गया है। शनिवार व रविवार को लोहिया अस्पताल में 24 घंटे के भीतर तीन शिशुओं की मौत पर डाक्टरों व कर्मचारियों पर आरोप लगाते हुए परिजनों ने अलग- अलग जोरदार हंगामा किया था।

इन घटनाओं में अस्पताल के डाक्टरों ने अपने को निदरेष बताया था, पर इन घटना ने मुख्यमंत्री ने सोमवार को जानकारी मिलने के बाद गंभीरता से ले लिया है। बताया जाता है कि इन मामलों को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री ने घटना के जिम्मेदार लापरवाह डॉक्टरों व कर्मचारियों के खिलाफ जांच करके कड़ी कार्रवाई के आदेश दिए गये है। बताया जाता है कि मुख्य मंत्री के निर्देश के बाद स्वास्य विभाग के प्रमुख सचिव खुद इस मामले की जांच करेंगे। बताते चले कि स्त्री रोग विभाग में लगातार डाक्टरों ने नवजात शिशुओं के इलाज में लापरवाही बरती थी।

शिशुओं की मौत से आक्रोशित परिजनों ने अस्पताल में तोड़फोड़ भी की थी। हालांकि अस्पताल के प्रशासनिक अधिकारियों ने मौके पर पहुंच कर मामले को शांत करा दिया था। अगर अस्पताल के सूत्रों की मानें तो एनआईसीयू में नवजात शिशुओं के इलाज में लगातार लापरवाही की शिकायत मिलने के बाद भी अस्पताल प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं करते है।

इसके अलावा वाडरे में भी कर्मचारी लगातार मनमानी करते हुए मरीजों से सिर्फ नेग की वसूली करते रहते है। अगर किसी ने आना-कानी कर दी तो उसके दिक्कतों को नजर अंदाज कर दिया जाता है। इनकी शिकायत मौके पर तैनात नर्स व डाक्टर भी उनकी शिकायतों को अनसुनी कर देते है। आरोप है कि यही कारण था कि सांस की दिक्कत होने पर भी वार्ड में कर्मचारियों ने बिजली का पंखा चला दिया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper