कांग्रेस में अनुशासन तोड़ने वालों की खैर नहीं, संजय दीक्षित छह साल के लिए पार्टी से बाहर

द लखनऊ ट्रिब्यून। वरिष्ठ कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर पर उठाये गये कड़े कदम की कड़ी में बढ़ते हुए कांग्रेस ने अब उत्तर प्रदेश के संगठन मंत्री संजय दीक्षित को अनुशासन तोड़ने की खातिर पार्टी से छह साल के लिए बाहर कर दिया है। दीक्षित पर यह कदम इसलिए उठाया गया क्योंकि वह बसपा से निष्कासित नेता नसीमुद्दीन सिद्दीकी को हाल ही मंे कांग्रेस में शामिल कराने का विरोध कर रहे थे।

सिद्दीकी के खिलाफ टिप्पणी करने पर पार्टी की अनुशासन समिति ने दीक्षित से जवाब तलब किया था। अनुशासन समिति ने फेसबुक के जरिए जताए गए विरोध को अनुशासनहीनता माना और दीक्षित को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया। यूपी कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता अशोक सिंह का कहना है कि दीक्षित ने सोशल मीडिया के माध्यम से लगातार बेबुनियाद टिप्पणी की। पार्टी द्वारा दिये गये निर्देशों की अनदेखी की। उन्होंने पार्टी फोरम पर अपनी बात न रख कर सार्वजनिक किया। उनके ये कदम अनुशासनहीनता की श्रेणी में आते हंै। विधानसभा चुनाव बाद प्रदेश अध्यक्ष पर टिप्पणी करने पर भी अनुशासन समिति ने दीक्षित से स्पष्टीकरण मांगा था। पार्टी की चेतावनी और लिखित रूप से माफी मांगने के बावजूद वह लगातार पार्टी विरोधी काम कर रहे थे। लिहाजा उन्हें पार्टी से छह साल के लिए बेदखल करना पड़ा।

 

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper