कांग्रेस ने बुलाई विधायक दल की बैठक, न पहुंचने वालों पर होगी कड़ी कार्रवाई

बेंगलुरु: कर्नाटक में सत्तारूढ़ कांग्रेस-जनता दल (एस) गठबंधन के कम से कम 13 विधायकों के विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देने के बाद राज्य में 13 महीने पुरानी गठबंधन सरकार गहरे राजनीतिक संकट से घिर गई है। इस बीच कांग्रेस ने अपने सभी विधायकों को सर्कुलर जारी कर 9 जुलाई को विधायक दल (सीएलपी) की बैठक में पहुंचने को कहा है।

पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया द्वारा आयोजित की जा रही इस बैठक में कर्नाटक कांग्रेस प्रभारी केसी वेणुगोपाल और कर्नाटक कांग्रेस प्रमुख दिनेश गुंडू राव भी शामिल होंगे। सर्कुलर में ये भी कहा गया है कि जो कांग्रेस विधायक सीएलपी की बैठक में हिस्सा नहीं लेगा उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

शीर्ष राजनीतिक सूत्रों ने बताया कि कांग्रेस नेता और मंत्री डी के शिवकुमार द्वारा असंतुष्ट विधायकों को मनाने के अंतिम समय में किए गए प्रयास के वांछित परिणाम नहीं निकल सके क्योंकि विधायकों ने अपने फैसले पर अड़े रहने का फैसला कर लिया है। राज्य में अचानक घटे इस राजनीतिक घटनाक्रम पर अपना राजनीतिक दांव लगा रहे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेताओं ने इस आरोप का खंडन किया है कि इस राजनीतिक संकट के पीछे भाजपा का हाथ है। विधानसभा में विपक्ष के नेता एवं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बी एस येदियुरप्पा ने संवाददाताओं से कहा कि इन इस्तीफों का भाजपा से कोई संबंध नहीं है और हमने आने वाले दिनों में घटने वाले राजनीतिक घटनाक्रम का साक्षी के तौर पर इंतजार करने का निर्णय लिया है।

ताकत में इजाफा, अब 500 किमी तक दुश्मन मार गिराएगी ब्रह्मोस मिसाइल

राज्य में अचानक तेजी से हुआ यह राजनीतिक घटनाक्रम मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी की अनुपस्थिति में घटा है। कुमारस्वामी अभी अमेरिका में हैं और अपनी यात्रा को बीच में छोड़कर वह कल वापस आ सकते हैं। इस बीच, कांग्रेस हाईकमान ने पार्टी महासचिव एवं कर्नाटक के प्रभारी के सी वेणुगोपाल को स्थिति संभालने का कार्यभार सौंपा है। वेणुगोपाल ने पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारामैया, मंत्री डी के शिवकुमार और प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष ईश्वर खांद्रे के साथ मौजूदा राजनीतिक स्थिति पर चर्चा शुरू कर दी है। कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष ने कम से कम 11 विधायकों के इस्तीफा सौंपने की पुष्टि की है। उन्होंने नौ जुलाई को प्रत्येक विधायकों को बुलाने के बाद इस्तीफों पर अंतिम निर्णय लने का वादा भी किया है।

गौरतलब है कि 225-सदस्यीय कर्नाटक विधानसभा में विपक्षी भाजपा के 105, कांग्रेस के 79, जद(एस) के 38 और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के एक विधायकों के साथ-साथ दो निर्दलीय और एक मनाेनीत सदस्य हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper