बेटी को जबरन गंदी फिल्में दिखाती थी मां, कमरे में भेड़िए की तरह नोचता था मामा

नई दिल्ली: मां, कितना मीठा, कितना अपना, कितना गहरा और कितना खूबसूरत शब्द है। समूची पृथ्वी पर बस यही एक पावन रिश्ता है जिसमें कोई कपट नहीं होता। कोई प्रदूषण नहीं होता। इस एक रिश्ते में निहित है छलछलाता ममता का सागर। लेकिन कुछ माएं इस पवित्र रिश्ते को भी शर्मसार करने में कोई कसर नहीं छोड़ रही हैं। ताजा मामला राजधानी दिल्ली से है जहां एक महिला ने मां बेटी के रिश्ते को कलंकित कर दिया है।

दरअसल केंद्र सरकार के अस्पताल में तैनात एक वरिष्ठ डॉक्टर की बेटी ने सौतेली मां और मामा पर गंभीर आरोप लगाए हैं। पीड़ित का कहना है कि मां मुझे मामा के साथ जबर्दस्ती पोर्न फिल्में देखने के लिए मजबूर करती थीं। मना करने पर मां और मामा दोनों पीटते थे। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस ने मां से पूछताछ शुरू कर दी है। जबकि मामा फरार है। उसकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है।

मिलिए दुनिया की सबसे खूबसूरत न्यूज़ ऐंकर से

रेप

पीडि़ता ने पुलिस को दिए अपनी लिखित शिकायत में बताया कि मां के गुजर जाने के बाद उसके पिता ने साल 2015 में आरोपी महिला से शादी कर ली थी। पीडि़ता ने बताया कि जब उसके पिता नौकरी पर चले जाते थे तब मां और मामा परेशान कर रहे थे। पीड़िता ने बताया कि सौतेली मां उसे मामा के साथ कमरे में बंद कर देती थी। मां उसे जबरन पोर्न फिल्में देखने के लिए मजबूर किया करती थी। विरोध करने पर वह अपने भाई को भी घर बुला लेती थी।

हैवानियत की सारी हदें पार, 7 साल की मासूम से 65 साल के बुजुर्ग ने किया रेप

आरोप है कि सौतेला मामा भी उसे मोबाइल पर जबरन गंदी फिल्में दिखाता था। कई बार तो पिता के अस्पताल जाने के बाद उन्होंने बच्ची के साथ मारपीट भी की थी। न तो उसे वक्त पर खाना मिलता था और न ही होमवर्क करने दिया जाता था। पुलिस ने बताया कि पीड़िता के शरीर पर मारपीट, सूजन और चोटों के निशान मिले हैं। आरोपी मामा और सौतेली मां के खिलाफ मुकदमा कायम किया गया है। आरोपी मामा फरार है जबकि मां को हिरासत में लेकर पूछताछ जारी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper