जेब में न रखें मोबाइल, जानिये क्या होते हैं नुकसान

घर में किलकारी न गूंजने के पीछे अक्सर महिलाओं पर ही दोष मढ़ा जाता है, लेकिन सच्चाई कुछ और ही है। पुरुष भी संतानोत्पत्ति करने में असमर्थ हो रहे हैं। सबसे बड़ी बात तो यह है कि इसके पीछे है हमारा खास साथी मोबाइल। यही वजह है कि इस पर ज्यादा बात करना या लगातार चैटिंग करना तो खतरनाक है ही, इसे आप कहां रखते हैं यह भी बहुत मायने रखता है।

ब्रिटिश फर्टिलिटी एक्सपर्ट ने एक स्टडी में पुरुषों को मोबाइल की लत से बाज आने की सलाह दी गई है। उन्होंने चेताया है कि जो शख्स एक दिन में कम से कम एक घंटा भी मोबाइल फोन इस्तेमाल कर रहा है, उसका स्पर्म खत्म हो रहा है, साथ ही स्तर में भी गिरावट आ रही है। एक नई स्टडी के मुताबिक, यदि आप मोबाइल कमर के नीचे रखते हैं तो आपके स्पर्म काउंट में जबरदस्त गिरावट आएगी।

यह रिपोर्ट जनरल रिप्रोडक्टिव बायोमेडिसिन में छपी है। इसमें लंबे समय की उस आशंका पर गहरी स्टडी है कि पुरुषों में फर्टिलिटी पर सेलुलर फोन का क्या प्रभाव पड़ता है। अपनी स्टडी में विशेषज्ञों ने कहा कि जो पुरुष मोबाइल फोन को हमेशा अपनी जेब में रखते हैं उनके स्पर्म खत्म होने की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। जेब में मोबाइल रखने वाले 47 फीसद पुरुष इस समस्या से पीड़ित हैं।

क्या कहता है अध्ययन
– पुरुष अपना मोबाइल फोन अपनी थाई के पास रखते हैं।
– जब वे रात में मोबाइल चार्ज कर रहे होते हैं तब भी वे बिस्तर के पास ही रखते हैं।
– आप अपना फोन बिस्तर के बगल में रखी हुई मेज पर भी रखते हैं तो भी स्पर्म की गुणवत्ता प्रभावित होती है।
– यही वजह है कि 4० फीसद कपल्स को गर्भ धारण करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।
– पुरुषों को मोबाइल की लत से बाहर निकलने की जरूरत है।
– यदि आप ऑफिस सूट पहनकर जाते हैं तो मोबाइल सीने वाली जेब में रखें। इससे आपका स्पर्म सुरक्षित रह सकता है।
– मोबाइल सोते वक्त बिस्तर पर नहीं रखें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper