आधी रात को भूकंप से दहशत, एक हफ्ते में दूसरी बार डोली धरती

पालघर: महाराष्‍ट्र के पालघर जिले में आधी रात को भूकंप के झटकों से दहशत फैल गई। हालांकि रिक्‍टर पैमाने पर भूकंप की तीव्रता अधिक नहीं थी मगर रात के वक्‍त झटके लगने से लोग ज्‍यादा घबरा गए। नैशनल सेंटर ऑफ सीस्‍मोलॉजी (NCS) ने बताया कि पालघर में रात 1.19 बजे भूकंप आया। रिक्‍टर स्‍केल पर यह भूकंप 2.8 तीव्रता का दर्ज किया गया।

24 जुलाई को देश के पांच अलग-अलग राज्‍यों में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए थे, वह भी सिर्फ 12 घंटे के अंदर। उस दिन भी पालघर में आधी रात के बाद रात को झटके लगे थे। रिक्टर पैमाने पर उन झटकों की तीव्रता 3.1 मापी गई थी और भूकंप का केंद्र जमीन से 5 किलोमीटर अंदर था। गनीमत रही कि हर बार भूकंप की तीव्रता कम रही।

12 घंटे में पांच राज्‍य कांप गए थे
24 जुलाई को दूसरा भूकंप जम्मू-कश्मीर में आया था। सुबह 5 बजकर 11 मिनट पर जम्मू-कश्मीर में कटरा से 89 किलोमीटर पूर्व की तरफ झटके आए। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 3 रही। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में भी सुबह 6 बजकर 2 मिनट बजे झटके आए। बागपत में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए। इस झटके की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.0 रही।

रिक्‍टर स्‍केल पर 4 से कम रहे झटके
पूर्वोत्तर के राज्य असम में तेजपुर के पास भूकंप के झटके दिन में 11 बजकर 8 मिनट पर महसूस किए गए। भूकंप का केंद्र तेजपुर से 58 किलोमीटर दक्षिण पूर्व में जमीन से 25 किलोमीटर की गहराई में रहा। रिक्टर पैमाने पर तीव्रता 3.5 रही। 24 जुलाई को भूकंप का पांचवां झटका पूर्वोत्तर के छोर मिजोरम के चम्फाई से 29 किलोमीटर दूर जमीन से 10 Km की गहराई में रहा। 11 बजकर 16 मिनट पर आए भूकंप की तीव्रता रिक्टर पैमाने पर 3.8 मापी गई।

लगातार लग रहे भूकंप के झटके
पिछले कुछ समय से देश के अलग-अलग हिस्सों में भूकंप के झटके रह-रहकर महसूस किए जा रहे हैं। दिल्ली-एनसीआर, जम्मू-कश्मीर, मणिपुर, गुजरात, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश में रह-रहकर लगातार झटके आते रहे हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि हिमालय के आसपास धरती के नीचे काफी उथल-पुथल हो रही है, इस कारण भूकंप आ रहे हैं। वैज्ञानिकों ने बड़े भूकंप की चेतावनी भी जारी की है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper