जीएसटी पर मिली और राहत

नईं दिल्ली। माल एवं सेवा कर (जीएसटी) परिषद ने आज पुराने वाहनों, कन्फेक्शनरी और बायोडीजल सहित 29 वस्तुओं पर कर की दर घटाने का फैसला किया। वहीं साथ ही परिषद ने जीएसटी रिटर्न दाखिल करने की प्रािया को सरल करने पर विचार विमर्श किया ताकि छोटी इकाइयों पर अनुपालन का बोझ कम हो सके। इसके अलावा कुछ जॉब वर्क्स, दर्जी की सेवाएं और थीम पार्क में प्रवेश सहित 54 श्रेणी की सेवाओं पर जीएसटी की दर घटाईं गईं है।

वित्त मंत्री अरुण जेटली की अगुवाईं वाली जीएसटी परिषद की यहां हुईं 25वीं बैठक में 29 उत्पादों और 54 श्रेणियों की सेवाओं पर कर की दरें घटाने का फैसले किया गया। जीएसटी परिषद में सभी राज्यों के प्रतिनिधि शामिल हैं। बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में जेटली ने कहा कि परिषद की अगली बैठक में कच्चे तेल, प्राकृतिक गैस, पेट्रोल, डीजल, विमान 29 उत्पादों व 54 सेवाओं पर कर की दरें घटाने का पैसला जीएसटी पर मिली और राहत जीएसटी परिषद की बैठक में भाग लेते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली व वित्त सचिव डॉ. हसमुख अधिया।

ईंधन एटीएफ और रीयल एस्टेट को जीएसटी के दायरे में लाने पर विचार किया जा सकता है। जीएसटी परिषद ने सेकेंड हैंड या पुरानी मध्यम और बड़ी कारों तथा एसयूवी पर जीएसटी की दर को 28 से घटाकर 18 प्रतिशत किया गया है। वहीं अन्य पुराने और सेकेंड हैंड वाहनों पर कर की दर को घटाकर 12 प्रतिशत करने का फैसला किया गया। हीरों और कीमती रत्न पर कर की दर को मौजूदा के तीन प्रतिशत से घटाकर 0.25 प्रतिशत किया गया है। वहीं जैव डीजल या बायोडीजल पर कर की दर 18 से घटाकर 12 प्रतिशत की गईं है।

वहीं पर्यांवरणनुकूल जैव ईंधन पर चलने वाली सार्वजनिक परिवहन की बसो के लिए इसे 28 से घटाकर 18 प्रतिशत किया गया है। सिंचाईं के उपकरणों, शुगर बायल्ड कनफेक्शनरी, 20 लीटर की पानी की बोतल, उर्वरक ग्रेड फॉस्फोरिक एसिड, मेहंदी का कोन में आने वाला पेस्ट, निजी वितरकों कोआपूर्ति की जाने वाली एलपीजी, स्ट्रा का सामान, वेल्वेट फ्रैब्रिक और धान की भूसी पर भी कर की दरें घटाईं गईं है। नईं दरें 25 जनवरी से प्रभावी होंगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper