GDP में ऐतिहासिक गिरावट पर सरकार ने क्या कहा

नई दिल्ली: वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) को लेकर जीडीपी के आंकड़े सामने आ गए हैं। जून तिमाही में देश की जीडीपी में 23.9 फीसदी की भारी गिरावट दर्ज की गई है। यह किसी तिमाही में 40 वर्षों की सबसे अधिक गिरावट है। देश की आर्थिक हालत को लेकर मुख्य आर्थिक सलाहकार केवी सुब्रमण्यम ने कहा कि दूसरी और तीसरी तिमाही में विकास में तेजी आएगी और भारत की इकॉनमी में ‘V’ शेप रिकवरी होगी।

इलेक्ट्रिसिटी कंजप्शन में तेजी
वर्तमान गिरावट को लेकर उन्होंने कहा कि देश में दो महीने तक कठोर लॉकडाउन लागू किया गया था। इसके कारण जीडीपी में इतनी भारी गिरावट दर्ज की गई है। अपने दावों को लेकर उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रिसिटी कंजप्शन बढ़ा है। इसके अलावा मालगाड़ी ट्रैफिक में तेजी आई है। ये ऐसे संकेत हैं जिससे साफ पता चलता है कि आर्थिक गतिविधियों में सुधार हो रहा है।

मालगाड़ी ट्रैफिक में पॉजिटिव ग्रोथ
सुब्रमण्यम ने कहा कि मालगाड़ी ट्रैफिक जुलाई 2019 के 95 फीसदी स्तर तक पहुंच चुका है। अगस्त के शुरुआती 26 दिनों में यह पिछले साल के मुकाबले 6 फीसदी ज्यादा है। पावर कंजप्शन भी 2019 की इस अवधि के मुकाबले केवल 1.9 फीसदी कम है।

ई-वे बिल पुराने स्तर पर
लोकल लॉकडाउन के कारण इंटर-स्टेट ट्रांसपोर्टेशन में काफी दिक्कतें आती हैं। हालांकि यह समस्या अब दूर होती दिख रही है। ई-वे बिल अगस्त के महीने में 99.8 फीसदी स्तर तक पहुंच चुका है।

इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर में तेजी से सुधार
इसके अलावा आठ कोर इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर के आउटपुट में लगातार सुधार आ रहा है। अप्रैल में इसमें 38 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई थी जो मई में घटकर 22 फीसदी , जून में 13 फीसदी और जुलाई में 9.6 फीसदी पर पहुंच चुकी है। इससे साफ पता चलता है कि इन्फ्रास्ट्रक्चर सेक्टर तेजी से सुधर रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper