दिल्ली में आधे घंटे की बारिश से शहर की सड़कें तालाब में तब्दील, अंडरपास में भरे पानी में फंसे वाहन

नई दिल्ली: दिल्ली-एनसीआर के शहरों में बुधवार को हुई भारी बारिश ने जहां गर्मी से परेशान लोगों को कुछ राहत दी, वहीं कुछ सड़क पर चलने वालों की मुश्किलें भी बढ़ा दी हैं। बारिश के कारण दिल्ली से लेकर गुरुग्राम, नोएडा, फरीदाबाद, गाजियाबाद और ग्रेटर नोएडा तक सभी जगहों के कई इलाकों में सड़कों पर जलभराव के कारण यातायात बाधित होने शिकायतें मिलीं।

इस दौरान राजधानी दिल्ली में अशोका रोड और महिपालपुर में सड़क भी धंस गईं। इसके चलते यहां पर ट्रैफिक को रोकना पड़ा। कुछ स्थानों पर यातायात के लिए मार्गों में बदलाव के बारे में लोगों को सूचित करने के लिए दिल्ली पुलिस ने ट्विटर का सहारा लिया। दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने ट्वीट कर बताया कि डब्ल्यूएचओ भवन के पास जलजमाव के कारण रिंग रोड से भैरो मार्ग के लिए परिवहन बंद है। आश्रम जाने के लिए डीएनडी और बारापुला का उपयोग करें।

पुलिस ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि गिरधारी लाल मार्ग, गुरु रविदास मार्ग, मायापुरी फ्लाईओवर के नीचे, प्रह्लादपुर फ्लाईओवर के नीचे, धौलाकुआं से गुरुग्राम, नारायणा से लोहा मंडी तक, मेटल फॉर्जिंग से माया मंडी तक और महिपालपुर में जलजमाव के कारण यातायात प्रभावित है। इसके साथ ही जलजमाव के कारण मिंटो ब्रिज क्षेत्र के पास यातायात कुछ समय के लिए प्रभावित हुआ।

मूसलाधार बारिश से अंडरपास में भरे पानी में फंसे वाहन
फरीदाबाद। बीती रात और दिन में हुई मूसलाधार बारिश से विभिन्न इलाकों में जलभराव हो गया। शहर के रेलवे अंडरपास में पानी भर गया। पुराना फरीदाबाद के अंडरपास में कई वाहन फंस गए। काफी जद्दोजहद के बाद इन वाहनों को निकाला जा सका। चार दिन से हो रही बारिश ने नगर निगम द्वारा किए गए जल निकासी के दावों की पोल खोल दी। हर तरफ लोग जलभराव से परेशान रहे। इस दौरान कोई सड़क पर जाम में फंसा रहा तो कोई अंडरपास में पानी से जूझता दिखा। पानी निकासी सुचारू नहीं होने से कई इलाकों में लोगों के घरों में पानी भर गया।

आधे घंटे की बारिश से शहर की सड़कें तालाब में तब्दील
बुधवार सुबह साढ़े दस बजे हुई तेज बारिश से लोगों को गर्मी से राहत मिली और आबोहवा भी साफ हो गई, लेकिन पूरे शहर में हुए जलभराव के कारण लोगों को काफी परेशानी से झूझना पड़ा। मिलेनियम सिटी का कोई भी हिस्सा जलभराव से अछूता नहीं रहा। आधे घंटे की बारिश से 80 से ज्यादा जगहों पर जलभराव हो गया। उसमें हाईवे, गोल्फ कोर्स रोड और शहर की मुख्य सड़के शामिल हैं। इन जगहों पर पहली बार जलभराव नहीं हुआ है। हर बार जलभराव होता है, लेकिन जिला प्रशासन जलभराव को हर बार रोकने में नाकाम साबित होता है। इससे साफ जाहिर है कि हर साल लोगों को मॉनसून में जलभराव से जूझना ही पड़ेगा।

ट्रैफिक पुलिस करती है अलर्ट
बारिश के बाद शहर में हुए जलभराव को लेकर ट्रैफिक पुलिस पूरी तरह से अलर्ट दिखी, जबकि दूसरे अन्य विभागों के अधिकारी सड़कों से गायब दिखे। ट्रैफिक पुलिस ने 20 से ज्यादा जगहों पर हुए जलभराव की फोटो शेयर कर लोगों को अलर्ट किया और दूसरे रास्तों से निकलने की अपील की। इस दौरान 700 से ज्यादा पुलिस कर्मियों ने सड़कों पर मोर्चा संभाला ताकी लोगों की परेशानी कम हो सके। बारिश के बाद साउथ सिटी दो, कन्हई चौक, हनुमान चौक,शनि मंदिर,गोल्फ कोर्स रोड एआईटी चौक, नरसिंगपुर, रामपुरा फ्लाईओवर, एमडीआई चौक, सीआरपीएफ कैंप चौक, वाटिका चौक, ग्लेरिया मार्केट, खांडसा रोड, सोहना चौक, सेक्टर-46 बख्तावर चौक, बसई रोड और राजीव चौक सहित अन्य जगहों पर जलभराव हुआ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper