हार्दिक पटेल ने उन्नाव और कठुवा मामले में स्मृति ईरानी की खामोशी पर उठाए सवाल

अहमदाबाद: पाटीदार आरक्षण आंदोलन समिति (पास) नेता हार्दिक पटेल ने निर्भया कांड के दौरान तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह को चूड़ियां भेजनेवाली स्मृति ईरानी की उन्नाव और कठुवा दुष्कर्म मामले में खामोशी पर सवाल उठाए हैं|

उत्तर प्रदेश के उन्नाव और जम्मू-कश्मीर के कठुवा की बलात्कार की घटना को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार की रात दिल्ली में इंडिया गेट तक कैंडल मार्च निकाला था| इन दोनों घटनाओं को लेकर विपक्ष भाजपा सरकार पर हमलावर है| अब इन मामलों को लेकर पास नेता हार्दिक पटेल ने ट्वीट कर भाजपा सरकार पर हमला किया है| हार्दिक पटेल ट्वीट कर उन्नाव और कठुवा दुष्कर्म कांड पर केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी की खामोशी पर सवाल उठाया है| जबकि निर्भया कांड के दौरान स्मृति ईरानी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह को चूड़ियां भेजी थीं|

गौरतलब है उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में और जम्मू-कश्मीर में पीडीपी के साथ भाजपा सरकार में भागीदार है| आरोप है कि दोनों ही सरकार दुष्कर्म के आरोपियों का बचाने का प्रयास कर रही हैं| जम्मू-कश्मीर के कठुवा में 8 साल की बच्ची की गेंगरेप के बाद हत्या कर दी गई थी| हांलाकि इस मामले में क्राइम ब्रांच ने 8 आरोपियों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट पेश कर दी है|

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper