18 राज्यों से कोरोना पर आ रही दिल खुश करने वाली खबर

नई दिल्ली: 18 राज्यों से कोरोना पर आ रही दिल खुश करने वाली खबरकोरोना वायरस महामारी (Coronavirus pandemic) झेल रहे भारत के लिए एक अच्‍छा संकेत है। 10 जून से भारत में रिकवर होने वाले मरीजों की संख्‍या, ऐक्टिव मामलों स ज्‍यादा हो गई है। 15 जून तक, करीब 1.75 लाख पेशंट कोरोना से रिकवर हो चुके, जबकि ऐक्टिव केसेज लगभग डेढ़ लाख हैं। कुल मिलाकर भारत के 18 राज्‍य ऐसे हैं जहां कोविड-19 से रिकवर होने वालों की संख्‍या ऐक्टिव केसेज से ज्‍यादा हो गई है।

हालांकि इसका मतलब यह नहीं कि कोरोना का सबसे बुरा दौर गुजर चुका है। सबसे ज्‍यादा प्रभावित महाराष्‍ट्र में जहां नए मामले आने की दर घटी हैं, वहीं दिल्‍ली में केसेज बढ़ रहे हैं। गुजरात की हालत बेहतर हो रही है तो तमिलनाडु में तेजी से मामले सामने लगे हैं। कई ऐसे राज्‍य जहां अबतक कोरोना का उतना प्रकोप नहीं था, अब डेली कई केसेज रिपोर्ट करने लगे हैं।

भारत में लगातार तीसरे दिन कोरोना वायरस संक्रमण के 11,000 से ज्यादा मामले सामने आए हैं और सोमवार को संक्रमण के मामले बढ़कर 3,32,424 हो गए । संक्रमण से 325 और लोगों की मौत के साथ ही मरने वालों की संख्या 9,520 पर पहुंच गई है। जिन राज्‍यों में कोरोना केसेज तेजी से बढ़ रहे हैं, वहां रिकवरी से ज्‍यादा ऐक्टिव केस हैं। जहां नए केसेज कम हो रहे हैं, वहां पर रिकवर होने वालों की संख्‍या ज्‍यादा है।

दिल्‍ली, हरियाणा, असम, छत्‍तीसगढ़ और झारखंड उन राज्‍यों में से हैं जहां कोरोना के नए मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। यहां पर ऐक्टिव केसेज की संख्‍या रिकवरी से ज्‍यादा है। बड़े राज्‍यों में केवल तमिलनाडु अपवाद हैं जहां रिकवर्ड पेशंट ज्‍यादा हैं। हरियाणा में पिछले महीने तक सब काबू में लग रहा था मगर इस महीने बड़ी संख्‍या में केसेज सामने आए हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper