आज भारत- चीन के बीच कूटनीतिक स्तर की बैठक, आपसी संबंधों पर बातचीत संभव

नई दिल्ली: भारत-चीन सीमा गतिरोध की समीक्षा करने के लिए राजनयिकों की एक महत्वपूर्ण बैठक से एक दिन पहले, घटनाक्रम से परिचित लोगों ने गुरुवार को कहा कि ध्यान मतभेदों को खत्म करने पर होगा, जिसके परिणामस्वरूप विघटन और डी-एस्केलेशन प्रक्रिया को रोक दिया गया है। सीमा मामलों पर परामर्श और समन्वय के लिए कार्य प्रणाली (WMCC), जिसने 10 जुलाई को अपनी अंतिम वर्चुअल बैठक आयोजित की थी, के शुक्रवार को विस्थापन प्रक्रिया की समीक्षा करने की उम्मीद की जा रही है। चीन के सीमा पर गतिरोध के बाद से यह चौथी बैठक होगी।

मामले से जुड़े लोगों ने बताया कि “दोनों पक्ष दोनों देशों के नेतृत्व द्वारा सहमति के अनुसार विघटन और डी-एस्केलेशन प्रक्रिया में हुई प्रोग्रेस को देखेंगे, ‘किसी ने नहीं कहा कि यह प्रक्रिया सरल होगी। यह जटिल और लंबा-खींचा जाएगा।’

भारत और चीन सैन्य और कूटनीतिक स्तरों पर गहन बातचीत के बावजूद संवेदनशील लद्दाख क्षेत्र में तनाव को कम करने में सफल नहीं हो पाए हैं और एलएसी के कुछ बिंदुओं पर विस्थापन प्रक्रिया लगभग रुकी हुई है। भारत ने गुरुवार को उम्मीद जताई कि चीनी पक्ष पूर्वी लद्दाख से अपने सैनिकों को पूरी तरह हटाने, तनाव कम करने और सीमावर्ती क्षेत्रों में शांति एवं स्थिरता की पूर्ण बहाली के लिए नई दिल्ली के साथ ”ईमानदरी” से काम करेगा।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने एक ऑनलाइन मीडिया ब्रीफिंग में कहा कि विमर्श एवं समन्वय कार्य तंत्र के ढांचे के तहत भारत और चीन के बीच कूटनीतिक स्तर की एक और दौर की वार्ता जल्द होने की उम्मीद है। घटनाक्रम से अवगत लोगों ने कहा कि इस कूटनीतिक वार्ता के शुक्रवार को होने की संभावना है और इसमें मुख्य ध्यान पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग सो तथा विवाद के कुछ अन्य बिन्दुओं से सैनिकों को तेजी से पीछे हटाने पर केंद्रित होगा। उन्होंने कहा कि 14 जुलाई को लगभग 15 घंटे तक चली कोर कमांडर स्तर की बैठक के बाद सैनिकों को पीछे हटाने की प्रक्रिया उम्मीद के अनुरूप आगे नहीं बढ़ी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper