कड़वाहट भुलाकर केजरीवाल के डिनर में शामिल हुए जेटली

नई दिल्ली। दिल्ली में गुरुवार की शाम मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा आयोजित डिनर में केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली भी पहुंचे। दोनों ने पास बैठ कर बेहद मैत्रीपूर्ण माहौल में बातचीत करते हुए भोजन किया। इस दुर्लभ संयोग को देखकर डिनर में शामिल अतिथि भी काफी अच्छा महसूस कर रहे थे। दिल्ली में गुरुवार को जीएसटी काउन्सिल की बैठक थी, जो देर शाम तक चली, क्योंकि एजेंडे में कई सारी चीजें थीं। कई चीजों पर तो इस बार निर्णय ही नहीं हो पाया।

काउन्सिल के सदस्यों के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने डिनर आयोजित किया था। जीएसटी की बैठक खत्म होने के बाद जब राज्यों के वित्त मंत्री और वरिष्ठ अधिकारी आयोजन स्थल विज्ञान भवन के हॉल से बाहर आ रहे, तो सात घंटे से खबरों के इंतजार में लगे पत्रकारों ने उन्हें घेर लिया। ज्यादातर राज्यों के वित्त मंत्री पत्रकारों से बातचीत करने लगे, लेकिन दिल्ली के डिप्टी सीएम और वित्त मंत्री मनीष सिसोदिया ने बातचीत से मना कर दिया। वे थोड़े अधीर दिखाई दे रहे थे। उन्होंने राज्यों के वित्त मंत्रियों के कान में कुछ बात कही और उसके बाद अपने अधिकारियों को निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जीएसटी काउन्सिल की बैठक में आए सभी सदस्यों के लिए दिल्ली के मशहूर फाइव सेंसेज गार्डन में डिनर आयोजित किया था। केजरीवाल सीधे डिनर स्थल पर पहुंच गए थे और उन्होंने मनीष सिसोदिया को जिम्मेदारी दी थी कि वे जीएसटी काउन्सिल के सदस्यों को लेकर वहां पहुंचें। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली घर जाने की तैयारी कर रहे थे, लेकिन सिसोदिया ने उनसे भी डिनर में चलने का अनुरोध किया।

जेटली ने अपने जूनियर मंत्री शिव प्रताप शुक्ला से पूछा कि क्या उन्होंने गार्डन (डिनर आयोजन स्थल) देखा है? शुक्ला ने कहा नहीं, लेकिन उन्होंने कहा कि वे भी डिनर में चलने को तैयार हैं। इसके बाद वित्त मंत्री केजरीवाल के डिनर में पहुंचे। सभी लोगों को यह देखकर काफी अच्छा लगा, क्योंकि मानहानि मामले में दोनों नेताओं के बीच बनी कड़वाहट किसी से छिपी नहीं है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper