अब बंगाल का प्रतिनिधित्व करेगी जया बच्चन, जानिये क्यों छोड़ रहीं अखिलेश का दामन

अखिलेश अखिल
राज्य सभा में सपा की सांसद जया बच्चन इस बार पार्टी बदल सकती हैं. कारण यह कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी जया को अपनी पार्टी की तरफ से उच्च सदन भेजने पर विचार कर रही हैं। बता दें कि जया बच्चन अब तक सपा सांसद के तौर पर राज्य सभा की सदस्य रही है लेकिन उनका कार्यकाल अप्रैल में समाप्त होने वाला है। ऐसे में बंगाल की बेटी होने की वजह से टीएमसी नेता और बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ,जया बच्चन को अपने कोटे से उच्च सदन में भेज सकती है। जया बच्चन अबतक उत्तरप्रदेश का प्रतिनिधितव कर रही थी अब बंगाल से करेगी।

गौरतलब है कि जया बच्चन का मौजूदा कार्यकाल तीन अप्रैल को ख़त्म हो रहा है। लिहाज़ा उनके बारे में बनर्जी मार्च के दूसरे पखवाड़े तक कोई घोषणा सकती हैं। टीएमसी के वरिष्ठ सदस्य इसकी पुष्टि करते हुए बताते हैं कि जया राज्य सभा के लिए पार्टी टिकट के दावेदाराें में सबसे आगे चल रही हैं। ग़ौरतलब है कि राज्य सभा से अप्रैल में 58 सदस्यों का कार्यकाल पूरा हो रहा है। इनमें से 10 सीटें उत्तर प्रदेश से खाली होंगी। इनमें नौ सीटें भारतीय जनता पार्टी को जा सकती हैं। क्योंकि उत्तर प्रदेश विधानसभा में भाजपा के 312 सदस्य हैं। सपा को सिर्फ़ एक सीट मिल सकती है। ऐसे में जया बच्चन के लिए सपा के ही टिकट पर फिर राज्य सभा में पहुंचना शायद संभव न हो। इसीलिए टीएमसी उनके लिए भी एक बेहतर विकल्प हो सकता है।

TMC की चार सीटें हो रही खाली 
टीएमसी के एक अन्य नेता की मानें तो, ‘हमारी चार सीटें खाली हो रही हैं। इनमें से दो पर नए चेहरों का आना तय माना जा सकता है और जहां तक जया बच्चन का ताल्लुक़ है तो वे बंगाली मूल की हैं। पश्चिम बंगाल में वे आज भी बेहद लोकप्रिय चेहरा हैं। उनके पति अमिताभ बच्चन अक़्सर ही खुद को बंगाल का दामाद बताते हैं। अमिताभ और जया के ममता बनर्जी से ताल्लुक़ात भी अच्छे हैं। ऐसे में वे हमारे लिए एक आदर्श उम्मीदवार हो सकती हैं। ’ हालांकि ये सब अभी सूत्रों से मिली जानकारी बतायी जा सकती है। अंतिम फैसला ममता को ही करना है लेकिन यह भी माना जा रहा है कि ममता भी जाया बच्चन के प्रति सॉफ्ट कॉर्नर रखती है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper