JDU से निकाले गए प्रशांत किशोर और पवन वर्मा

नई दिल्ली: बिहार से बड़ी राजनीतिक खबर आई है। राज्य के सत्तारुढ़ पार्टी जदयू ने विरोध के स्वर उठा रहे प्रशांत किशोर और पवन वर्मा को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। इसके साथ ही प्रशांत किशोर का जदयू ने नाता टूट गया है। माना जा रहा है कि दिल्ली विधानसभा में जदयू ने भी अपने 2 उम्मीदवार उतारे है। लेकिन आप पार्टी के लिये सलाहकार के तौर पर कार्य कर रहे प्रशांत किशोर को पार्टी हित पर चोट पहुंचाने का आरोप लगाते हुए जदयू ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है।

इससे पहले प्रशांत किशोर ने मंगलवार को राज्य के सीएम नीतीश कुमार पर बड़ा हमला किया था। वहीं नीतीश से हाल के दिनों में मनमुटाव के कारण भी प्रशांत और पवन वर्मा को जदयू से बाहर किया गया है। हालांकि नीतीश ने अभी कुछ दिन पहले ही बयान दिया था कि जिसे पार्टी की नीतियों से समस्या है उन्हें छोड़कर चली जानी चाहिये। उन्होंने कहा कि अगर दूसरी पार्टी की विचारधारा पसंद आने लगी है तो कोई भी जा सकता है।

पीके ने सीएम के इस बयान की घोर निंदा की थी। वहीं पवन वर्मा ने कहा कि नीतीश अपनी निजी विचारधारा को पार्टी पर थोपना चाहते है। जिसका वे लोग विरोध करते रहे है। हालांकि CAA और NRC पर भी जब नीतीश कुमार ने मोदी सरकार का खुलकर समर्थन किया था तब भी यह नेता द्वय ने आलोचना की थी। प्रशांत ने यहां तक कह दिया था कि किसी भी कीमत पर बिहार में नागरिकता कानून को लागू नहीं होने दिया जाएगा। वैसे प्रशांत किशोर के पार्टी के वरिष्ठ नेताओं से अनबन समय-समय पर सुर्खियां बटोरती रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper