JOKES : घर में अंधेरा होते ही जीजा ने इशारे से बुलाया, ये देखकर रोमांटिक होकर साली ने कहा..

इस दुनिया में शायद ही कोई ऐसा होगा जिसको हंसी से प्यार नही हैं । हर कोई चाहता हैं की वह ठहाका लगाकर हंसे, लेकिन मज़बूरी देखिये आज हर कोई अपने काम में इतना वयस्त हैं की हंसी की छोडिये किसी के पास मुस्कुराने तक का समय नही हैं । रोजमर्रा के कामो में आज हर कोई इतना उलझ कर रह गया हैं की उसके पास खुद के लिए समय नही हैं ।

मुन्ना- तुम कितने भाई- बहन हो… पप्पू- जी हम 45 भाई बहन है
मुन्ना- क्या सच में, तो क्या तुम्हारे घर जनसंख्या नियंत्रण वाले कभी नही आए
पप्पू- हां आए तो थे…मुन्ना- तो क्या उन्होंने कुछ कहा नहीं
पप्पू- वो क्या है ना कि जब वो आए थे ना तो हम सब पढ़ रहे थे तो  वो कोचिंग समझ कर वापिस चले गए

पत्नी ने पति को फोन लगाया…पति- क्या है ?

पत्नी- कहां हो तुम ?….पति- मेरा एक्सीडेंट हो गया है, मैं अस्पताल जा रहा हूं, मुझे बहुत चोट लगी है
पत्नी- ठीक है जाओ, मैंने बस ये कहने के लिए फोन किया था कि टिफिन का ध्यान रखना, अगर टेडा हो गया तो दाल गिर जाएगी

टीचर- तुम्हारे पापा क्या काम करते हैं?
पप्पू- जी वो सुबह शाम, रोज गालियां खाते हैं
टीचर- क्या मतलब ….पप्पू- जी वो कस्टमर केयर एग्जिक्यूटिव हैं

न्यूज़ पेपर में एक विज्ञापन निकला…
“हमारे पास एक ऐसी चीज है जिसे पहनकर आप पूरी दुनिया को देख सकते हैं, पर आपको कोई नहीं देख सकता. कीमत सिर्फ 10000 रूपये”
पप्पू ने विज्ञापन पढ़ते ही 10000 रूपये भेज दिए…कुछ दिन बाद एक पार्सल आया. पप्पू ने खोलकर देखा तो अंदर एक ‘बुर्का’ निकला.
पप्पू बेहोश…

एक औरत ने एक बोर्ड देखा:. बनारसी साड़ी 10/-…नायलॉन 8/-..कॉटन 5/-.
औरत खुश हो के अपने पति से: मुझे 500 रुपये दो, में 40-50 साड़ी खरीदुंगी…!.
पति: अरी ओ बीरबल की माँ… Press करने वाले की दुकान है वो…!

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper