खुदागवाह, चांदनी थीं, हैं और रहेंगी ‘श्रीदेवी’

द लखनऊ ट्रिब्यून ब्यूरो : श्रीदेवी सुंदरता की वह प्रतिमूर्ति थीं, जिनकी मिसाल दी जाती थी। यही कारण है कि जब भी किसी लड़की को बहुत सुंदर बताना होता था, तो हमारे यहाँ लोग यह कह बैठते हैं कि वो लड़की श्रीदेवी जैसी सुंदर दिखती है। लेकिन, आज (28 फ़रवरी) सुंदरता की इस मूरत को अंतिम विदाई दे दी गयी। हालांकि श्रीदेवी हमेशा अपनी अदाकारी, शोख चंचल अदाओं और मनमोहक सुंदरता के कारण लोगों के दिलों में बसी रहेंगी।

54 साल के जीवन में से 50 साल सिनेजगत को देने वाली श्रीदेवी ने एक ऐसा रिकॉर्ड बनाया है जिसकी बानगी दूर-दूर तक देखने को नहीं मिलती। श्रीदेवी का असली नाम श्री अम्मा येंगर अयप्पन था। इन्होंने चार साल की उम्र में तमिल फिल्म ‘कंदन करुणई’ के जरिये सिनेमा जगत में कदम रखा था। मात्र 13 साल की उम्र में इन्होंने ‘मूंद्रा मुदिच्छू’ फिल्म में हीरोइन बनकर इंट्री की और लोगों के दिलों पर छा गयीं। इन्होंने तमिल, तेलुगू, कन्नड़ और मलयालयम फिल्मों में छाने के बाद बॉलीवुड का रुख किया और ‘सोलहवां साल’ फिल्म से डेब्यू किया। हालांकि यह फिल्म चली नहीं उसके बाद सदमा आयी, फिर हिम्मतवाला और फिर श्रीदेवी बॉलीवुड की भी देवी बन गयीं।

हर विधा में थीं परफेक्ट
अकसर यह देखा जाता है कि जो एक्ट्रेस बहुत बढ़िया एक्टिंग करती हैं, वह अच्छी डांसर नहीं होती या फिर डांसर होती हैं, तो अच्छी एक्टिंग नहीं कर पातीं, लेकिन श्रीदेवी एक्टिंग, अदा और डांस का अद्‌भुत संगम थीं। जब वे परदे पर आती थीं, तो कुछ भी मिसिंग नहीं होता था।

लेडी अमिताभ के नाम से जाना जाता था
श्रीदेवी को लेडी अमिताभ के नाम से भी जाना जाता था। उन्होंने कभी खुद को फिल्म में शोपीस नहीं बनने दिया। वह अपनी एक्टिंग के बलबूते फिल्म को हिट कराने का माद्दा रखती थी। चालबाज, नगीना, जुदाई, चांदनी, इंग्लिश-विन्गलिश, मॉम जैसी फिल्में इसका जीता-जागता उदाहरण हैं। अपने दौर में श्रीदेवी का मुकाबला सिर्फ श्रीदेवी से ही था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper