किशन को मिला नया जीवन, नौ साल बाद मिली कैंसर से मुक्ति

लखनऊ ट्रिब्यून ब्यूरो : पशु प्रेमियों के लिए खुशखबरी है। चिडिय़ाघर में लंबे समय से कैंसर से जूझ रहा टाइगर किशन अब इस जानलेवा रोग से मुक्ति पा चुका है। वरिष्ठ पशु चिकित्सक डॉ. उत्कर्ष शुक्ला के अथक प्रयासों से किशन को नई जिंदगी मिली है। किशन 2009 में दुधवा में कांपटांडा के किशनपुर गांव से लखनऊ के प्राणि उद्यान में लाया गया था। आदमखोर किशन ने पांच लोगों की जान ले ली थी।

जब किशन वन विभाग की पकड़ में आया तो उसके दाएं कान के पीछे एक घाव था, जो काफी अंदर तक फैला हुआ था। काफी समय तक इन घावों का सामान्य इलाज किया गया, लेकिन जब किशन के कान के घाव ठीक नहीं हुए तो उसकी बायोप्सी कराई गई।

बरेली के इज्जतनगर में स्थित इंडियन वेटनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट (आईवीआरआई) ने उसकी जांच कर किशन को कैंसर होने की पुष्टि की। इसके बाद पशु चिकित्सकों ने किशन के कान के कैंसर को ठीक करने के लिए इलाज शुरू किया गया। किशन के लिए डॉक्टरों ने कई दवाएं विदेशों से भी मंगाईं। डॉक्टरों की करीब नौ साल की अथक मेहनत के बाद अब किशन पूरी तरह से स्वस्थ हो चुका है और चिडिय़ाघर आने वाले लोगों के आकर्षण का केंद्र बनेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper