जानिए क्यों खाना चाहिए ठंड के मौसम में बादाम

बादाम खाना सेहत के लिए कितना गुणकारी है, यह शायद आप नहीं जानते होंगे। बादाम एक टेस्टी ड्रायफ्रूट तो है ही इसके पौष्टिक गुण ना सिर्फ खूबसूरत बनाते हैं, बल्कि सेहत की दृष्टि से भी इनका कोई मुकाबला ही नहीं है। खासकर सर्दियों के मौसम में रोज बादाम खाना आपके लिए किसी दवा से कम नहीं है। आइए हम आपको बताते हैं कि हमें क्यों खाना चाहिए बादाम।

बादाम को चाहे किसी भी तरह से खाएं, यह हर हाल में फायदेमंद होता है। बादाम में 16.5 फीसद प्रोटीन और 41 फीसद ऑयल होता है। यही वजह है कि संतुलित भोजन के इस प्रमुख स्रोत को सबसे सेहतमंद मेवा बताया गया है। यूनानी पद्धति में तो बादाम के तेल को पूरे परिवार के लिए स्वास्थ्यवर्धक टॉनिक माना जाता है। बादाम एनीमिया के रोगी के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। इसके अलावा इसको मानसिक थकान, कब्ज, नपुंसकता और श्वास संबंधी रोगों में इस्तेमाल किया जा सकता है। हर रोज रात को 25० मिग्रा गुनगुने दूध में 5-1० मिली बादाम तेल मिलाकर पीने से लाभदायक होता है। इससे कब्ज की समस्या दूर होती है और यह शरीर को ताकतवर बनता है। बादाम तेल के नियमित सेवन से कोलेस्ट्रॉल भी कम होता है। यही वजह है कि यह दिल को दुरुस्त रखता है।


सबसे बड़ी बात तो यह है कि बादाम केवल शरीर की ही सेहत नहीं ठीक रखता है, बल्कि यह स्किन के लिए भी वरदान है। बादाम का प्रयोग रंगत में निखार लाता है और बेजान त्वचा को रौनक प्रदान करता है। त्वचा की खोई नमी लौटाने में भी भीगी बादाम का पेस्ट सर्वोत्तम माना गया है। बादाम तेल से रूसी दूर होती है और बालों की साज-संभाल में भी यह कारगर है। इसमें मौजूद विटामिन तथा खनिज पदार्थ बालों को चमकदार और सेहतमंद बनाते हैं। रूखी त्वचा को नरम, मुलायम बनाने के लिए भी बादाम तेल लगा सकते हैं। नहाने से 2-3 घंटे पहले बादाम तेल लगाना बहुत अच्छा होता है। बादाम तेल की मालिश बालों को स्वस्थ रखने के साथ ही मस्तिष्क के विकास में भी फायदेमंद होती है। बादाम में मौजूद विटामिन डी बच्चों की हड्डियों को मजबूत बनाता है। तो फिर देर किस बात की, आज से ही शुरू कीजिए बादाम का इस्तेमाल और देखिए इसके जबरदस्त परिणाम।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper