जनेश्वर पार्क में घांस लगाने के नाम पर करोड़ों डकार गए एलडीए के अभियंता

लखनऊ : समाजवादी पार्टी सरकार की बहती गंगा में डुबकी लगाने वाले लखनऊ विकास प्राधिकरण के अफसरों और कर्मचारियों पर अब ऑडिट विभाग की तलवार लटक रही है. दरअसल पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के कार्यकाल में निर्माण कराये गए जनेश्वर मिस्र पार्क में घांस लगाने के नाम पर भी करोड़ों रुपये डकारे जाने का मामला भी ऑडिट विभाग की जाँच में पकड़ा गया है.

नीलगिरि घांस के नाम पर देशी घांस लगाकर तकरीबन 2 .10 करोड़ का गड़बड़ झाला किया गया है. इस बड़े घोटाले को ऑडिट विभाग ने पकड़ लिया है. जिसके चलते प्राधिकरण के अफसरों और इंजीनियरों पर अब योगी सरकार की कार्रवाई की गाज गिर सकती है.इसी तरह बिना टेंडर एक्सटेंशन लिए ठेकेदार का समय तक बढ़ा दिया गया, और तो और ठेकेदार से जुर्माना भी वसूल करने की जरुरत नहीं समझी गयी.

फिलहाल जांच कर रही ऑडिट टीम ने अब प्राधिकरण के उपाध्यक्ष से कई महत्वपूर्ण दस्तावेज मांगे हैं.ऑडिट ऑफिसर व सहायक ऑडिट ऑफिसर की ओर से जनेश्वर मिस्र पार्क में हार्टिकल्चर डेवलपमेंट एवं मेंटनेंस वर्क में गड़बड़ियां पकड़ी गयीं हैं. ऑडिट में पार्क में घास लगाने के नाम पर करोड़ों रुपये के घोटाले की आशंका जताई गयी है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper