Lockdown Effect: भारत में होगा जनसंख्या विस्फोट, जन्मेंगे 2 करोड़ बच्चे

नई दिल्ली. चीन की जनसंख्या है 142 करोड़ और भारत की जनसंख्या 130 करोड़ लोगों के साथ अब उसके बहुत करीब पहुँच गई है. अब ऊपर से यूनिसेफ ने और डरा दिया है भारत को ये कह कर कि उनका अनुमान है कि लॉकडाउन के दौरान घर पर रहने के कारण भारतीयों की संख्या में धमाकेदार बढ़ोत्तरी होने वाली है और अगले सात महीनों में भारत की जनसंख्या हो जायेगी 132 करोड़.

यूनीसेफ ने अनुमान लगाया है कि भारत में दिसंबर तक सबसे ज्यादा 2 करोड़ बच्चे पैदा हो सकते हैं. इसके आगे यूनिसेफ का अनुमान इतना ही डरावना है. और अनुमान ये है कि कोरोना के कारण मां-बच्चे को एक डरावनी सच्चाई का सामना करना पड़ सकता है और कोरोना वायरस के नियंत्रण के लिए उठाये गए लॉकडाउन जैसे कदम स्वास्थ्य सेवाओं पर प्रतिकूल प्रभाव डाल सकते हैं.

भारत में वर्ष 2020 के मार्च माह से दिसंबर माह के बीच दुनिया में सबसे अधिक बच्चे पैदा होंगे और इनकी संख्या होगी 2 करोड़. आने वाली 10 मई को पड़ने वाले मदर्स डे के पहले लगाया गया है यह अनुमान यूनाइटेड नेशंस चिल्ड्रन्स फंड द्वारा. यूनिसेफ के अनुसार 11 मार्च से 16 दिसंबर का दौर दुनिया भर में लगभग साढ़े ग्यारह करोड़ शिशु जन्म ले सकते हैं जिनमें से अकेले भारत में ही लगभग दो करोड़ बच्चों का जन्म हो सकता है. वहीं चीन में लगभग डेढ़ करोड़ बच्चे और पैदा हो सकते हैं.

यदि जैसा यूनिसेफ ने कहा है वैसा हुआ अर्थात यदि भारत में दिसंबर तक 2 करोड़ बच्चे पैदा हो गए तो ये एक भयंकर स्थिति होगी. कारण कि यदि ऐसा हुआ तो भारत और चीन की जनसंख्या में तब सिर्फ दस करोड़ की दूरी रह जाएगी. ऐसे में जाहिर है कि भारत को सोचना होगा कि हम कहाँ जा रहे हैं और जल्द से जल्द लाना होगा जनसंख्या नियंत्रण क़ानून.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper