इधर सीएम कर रहे थे राष्ट्रपति का सम्मान, उधर मंत्री महोदय कर रहे थे अपमान!

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार के गठन के बाद से ही बेहद चर्चा में रहे खादी ग्रामोद्योग एवं रेशम विभाग के मंत्री सत्यदेव पचौरी शुक्रवार को एक बार फिर लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द की मौजूदगी में भी चर्चा में रहे। वन डिस्ट्रिक्ट, वन प्रोडक्ट समिट के मुख्य अतिथि राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द का जिस समय स्वागत चल रहा था, उस समय पचौरी आराम से कुर्सी पर जमे थे, जबकि राज्यपाल राम नाईक के साथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य उनके सम्मान में तब तक खड़े रहे जब तक राष्ट्रपति का स्वागत तथा सम्मान चलता रहा।

सीएम योगी कर रहे थे राष्ट्रपति का सम्मान, मंत्री बैठे कर रहे थे आराम

राजधानी लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आज से तीन दिवसीय एक जिला एक उत्पाद समिट (ODOP) का आयोजन कैबिनेट मंत्री सत्यदेव पचौरी का मंत्रालय करा रहा है। सत्यदेव पचौरी प्रदेश में सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन मंत्री हैं। आज समिट का उद्घाटन राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने किया। उद्घाटन के बाद मंच पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द को प्रतीक चिन्ह देने के साथ शॉल उढ़ाकर स्वागत किया। इस दौरान राज्यपाल राम नाईक व उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य उनके सम्मान में खड़े रहे। लेकिन सत्यदेव पचौरी पता नहीं किस धुन में थे, पहले सिर खुजाया, फिर पानी पीया और फिर बैठे बैठे ही देखते रहे। सोशल मीडिया पर जो तस्वीरें वायरल हो रही हैं उसमें साफ़ देखा जा सकता है।

अब समझ में यह नहीं आ रहा है कि यूपी के खादी ग्रामोद्योग व लधु उद्योग मंत्री सत्यदेव पचौरी ने इस समिट की तैयारी में काफी समय दिया था। कल तक वह हर कोने का निरीक्षण भी करते दिखे। फिर आज उन्होंने ऐसा क्यों किया। जबकि सूत्रों की माने तो पचौरी पूरी तरह से स्वस्थ हैं। उन्हें किसी प्रकार की शारीरिक दिक्कत नहीं है। इससे पहले दीप प्रज्वलन के समय वह माननीय राष्ट्रपति, राज्यपाल और मुख्यमंत्री के साथ उनके बीच खड़े नज़र आए।

भारतीय गणराज्य के राष्ट्रपति महामहिम रामनाथ कोविंद के सम्मान के दौरान कैबिनेट मंत्री सत्यदेव पचौरी द्वारा किया गया यह कृत्य सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। हर कोई पचौरी की आलोचना कर रहा है। एक युवक ने माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखा है कि बीजेपी के मंत्रियों का अहंकार सर चढ़ कर बोल रहा है। देश के राष्ट्रपति के सम्मान में खड़े न हो कर इन्होंने दलितों के प्रति भाजपा के चेहरे को बेनकाब किया है। मंत्री सत्यदेव पचौरी ने राष्ट्रपति का अपमान कर यह साबित कर दिया है कि दलितों के लिए इनकी सोच आजभी नही बदली है।

पचौरी ने निरिक्षण के दौरान विकलांग कर्मचारी पर कसी फब्तियां

आपको बता दें कि सत्यदेव पचौरी का यह कोई पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी इनके कई मामले सामने आ चुके हैं। सूत्रों की माने तो कुछ ही दिनों पहले सत्यदेव पचौरी अपने विभाग के एक दफ्तर के औचक निरीक्षण के दौरान एक विकलांग कर्मचारी पर फब्तियां कसते पाए गए। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक चतुर्थ वर्ग के अनुबंधित कर्मचारी को ऊपर से नीचे देखते हुए मंत्री पचौरी ने साथ चल रहे आला अधिकारियों से कहा कि ‘लूलों-लंगड़ों को संविदा पर रख लिया है, ये क्या काम करेगा।’ मंत्री की टिप्पणी पर अगल-बगल जमा अधिकारियों व कर्मचारियों ने खींसे निपोर दीं। अपाहिज कर्मचारी शर्म और अपमान से स्तब्ध रह गया। इस घटना का विडियो भी है जो सोशल मीडिया पर वायरल हो चुका है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper