राजीव गांधी हत्या मामले में उम्र कैद काट रही नलिनी ने खुदखुशी की दी धमकी

वेल्लोर. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के मामले में तमिलनाडु के वेल्लोर में विशेष महिला जेल में उम्रकैद की सजा भुगत रही नलिनी श्रीहरन ने खुदकुशी करने की धमकी दी है। अधिकारियों ने मंगलवार को बताया कि एक कैदी ने अधिकारियों से नलिनी की शिकायत की, जिसके बाद उसने अपनी जान देने की धमकी दी। कारागार विभाग के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि यह कैदी भी उम्र कैद की सजा काट रही है। उसने आरोप लगाया कि राजीव गांधी मामले में दोषी उसे ज्यादा काम देकर उसे तंग करती है और अधिकारियों से अपनी कोठरी बदलने का अनुरोध किया। शिकायत के बाद, जेल अधिकारियों ने नलिनी से पूछताछ की और शिकायतकर्ता की कोठरी बदल दी।

अधिकारी ने पीटीआई-भाषा से कहा, ” पूछताछ के दौरान नलिनी ने जेलर से झगड़ा किया।” उन्होंने बताया, ” उसने कहा कि दूसरी कैदी की शिकायत झूठी है और उसने उसे तंग नहीं किया। नलिनी ने कहा कि अगर उस कैदी की कोठरी बदली जाएगी तो वह आत्महत्या कर लेगी।” अधिकारी ने कहा, ” यह एक तरह से ब्लैकमेल करना था। अगर शिकायतकर्ता की कोठरी बदली जाती है तो नलिनी उससे काम नहीं ले सकती है। उसने सिर्फ (जान देने की) धमकी दी, कोई कोशिश नहीं की।” नलिनी 29 साल से जेल में बंद है। उसने कल शाम सहायक जेलर और अन्य कर्मचारियों के सामने जेलर को अपनी जान देने की धमकी दी।

नलिनी के कानूनी सलाहकार पी पुगझेनथी ने पीटीआई-भाषा से कहा कि जेल अधिकारियों ने ” विरोधाभासी विवरण” दिया है जो दिखाता है कि वे ” कुछ छुपा” रहे हैं। उन्होंने अधिकारियों को एक अभिवेदन देकर उसकी सुरक्षा के मद्देनजर उसे चेन्नई पुझल जेल में स्थानांतरित करने को कहा है। पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 21 मई 1991 में लिट्टे के मानव बम ने श्रीपेरंबदुर में हत्या कर दी थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper